जैसा की आपने टाइटल मे पढ़ा की ज्ञान बड़ा या बुद्धि.आप भी यही सोच रहे होंगे बिना बुद्धि के ज्ञान तो प्राप्त नहीं किया जा सकता तो फिर बुद्धि ही बड़ी होगी.

चलिए इसका जवाब एक घटना के माधतम से समझते है. एक घने बरगद के पेड़ की छाँव मे एक ज्ञानी साधु बैठे थे,

साधु जी के आस पास बहुत से लोग बैठे थे जो साधु जी के प्रवचन का रसपान कर रहे थे.इतने मे एक 40 साल का युवक जो पेशे से डॉक्टर था, वो भी वही लोगो के बीच शामिल हो गया.

डॉक्टर महाशय अपने अहंकारी स्वाभाव से साधु से पश्न करते है की ज्ञान बड़ा या बुद्धि.?आवाज़ स्वर, अजीब था जिससे वहाँ मौजूद सभी का ध्यान उस डॉक्टर की ओर गया.

साधु जी बहुत ज्ञानी थे जो की उनकी रूप रेखा, शालीनता व ज्ञान भरी तर्कशील बातो से स्वतः ही झलकता था.

डॉक्टर मु ऐठते हुए बोला :- यह आप कैसे कह सकते है, बिना बुद्धि के ज्ञान प्राप्त नहीं किया जा सकता, तो फिर ज्ञान बुद्धि से बड़ा कैसे.

इस पर ज्ञानी साधु जी बोले - हाँ यह सत्य है की बुद्धि के बिना ज्ञान प्राप्त नहीं हो सकता. किसी भी तरह के ज्ञान को समझने के लिये बुद्धि का होना अनिवार्य है.

किन्तु संसार मे कोई मनुष्य या जीव ऐसा दिखा दो जो बिना मस्तिष्क यानी बुद्धि के हो. ऐसा कोई नहीं.

ईश्वर ने सबको बुद्धि प्रदान की है.तो यह बात तो पक्की है की बुद्धि शुरू से ही सबके पास है. किन्तु वह बुद्धि सिर्फ………………

दोस्तों इस ज्ञान भरी बहस को पूरा पढ़ने के लिये हमारे आर्टिकल पर जाना होगा जिसका बटन नीचे है तुरंत दबाए 👇👇

हम अपने अपने blog पर ज्ञान से भरी ऐसी ही तमाम जानकारियां लाते रहते है. Blog पर ज्ञान से भरे रोचक किस्से कहानियों और suvichar है. 👇👇👇mauryamotivation.Com