page contents
tenali-raman-stories-in-hindi

tenali raman stories-अंगूठी मे भगवान

tenali raman stories – अंगूठी मे भगवान (तेनाली राम स्टोरीज़) – दोस्तों स्वागत है आपका ज्ञान से भरी  कहानियों की इस रोचक दुनिया मे। दोस्तों जीवन मे कहानियों का विशेस महत्तव होता है | क्योकि इन कहानियो के माध्यम से हमे बहुत कुछ सीखने को मिलता है |

 

इन कहानियों के माध्यम से आपको ज़रूरी ज्ञान हासिल होंगे जो आपको आपकी लाइफ मे बहुत काम आएंगे | यहाँ पर बताई गई हर कहानी से आपको एक नई सीख मिलेगी जो आपके जीवन मे बहुत काम आएगी | हर कहानी मे कुछ न कुछ संदेश और सीख (moral )छुपी हुई है | तो ऐसी कहानियो को ज़रूर पढ़े और अपने दोस्तो और परिवारों मे भी ज़रूर शेयर करे |

 

 

 

तो चलिये शुरू करते है हमारी आज की कहानी 

अंगूठी मे भगवान | tenali raman stories

 

tenali-raman-stories-in-hindi

 

एक बार राजा कृष्ण देव राय यह सोच कर बहुत परेशान थे की यदि भगवान हर जगह विराजमान है तो मुझे इस अंगूठी मे क्यों नहीं दिखाई देते | अगले दिन दरबार मे राजा अपने इसी सवालो का जवाब पाने के लिए सभी दरबारियों के सामने यह सवाल पूछते है की क्या भगवान सच मे हर जगह विराजमान रहते है ?tenali raman stories-अंगूठी मे भगवान

तो उनके सामने बैठा एक दरबारी तुरंत बोला – “हाँ महाराज ! बिलकुल , भगवान को यदि सच्चे दिल से याद किया जाए पुकारा जाए तो वह किसी न किसी रूप मे मदद के लिए ज़रूर आते है” |

 

राजा बोलते है – अच्छा ! यदि ऐसा है, तो  क्या  मेरी इस अंगूठी  मे भी भगवान है ?

दरबारी – हाँ महाराज बिलकुल है |

राजा – तो फिर साबित कर के दिखाओ , की इसमे भगवान है ? 

राजा की यह बात सुन दरबारी बड़ी ही अचरज मे पड़ जाता है | की भला मैं इसे कैसे साबित करू ? तब दरबारी राजा से  माफी मांगते हुए कहता है की – क्षमा कीजिये महाराज ! मैं यह साबित नहीं कर सकता |

 

tenali raman stories-अंगूठी मे भगवान

तब राजा की नज़र तेनाली (tenali raman)  पर जाती है राजा बोलते है तेनाली तुम तो बहुत ज्ञानी और बुद्धिमान हो तो तुम मुझे  यह साबित कर के दिखाओ की इस अंगूठी मे भगवान है | तब तेनाली बोलता है ठीक है महाराज मुझे कुछ दिन का समय दें | राजा , तेनाली को कुछ दिन का समय दे देते है |

 

अब तेनाली (tenali raman) घर आकार इधर उधर घूमते हुए बस यही सोचता है की कैसे साबित करू की अंगूठी मे  भगवान है | मैं भला कैसे दिखाऊ उनको उस अंगूठी मे भगवान ? 

 

तभी तेनाली (tenali raman) के मन मे साधू महात्मा का ख्याल आता है की क्यो न इस बात का हल उनसे पूछा जाए अतः उनसे मुझे इस सवाल का हल जरूर मिल जाएगा क्योकि ऐसे धार्मिक और आस्था  से जुड़ा सवाल का बेहतर जवाब भला साधू महात्मा से अच्छा और कौन दे सकता है | तेनाली एक साधू महात्मा के पास पहुंचता है | 

 

तेनाली (tenali raman) साधू को प्रणाम करते हुए अपनी सारी समस्या बताते है | तेनाली (tenali raman) की बात सुन साधू बोलता है ठीक है तुम कल मुझे राजा के दरबार मे राजा के सामने ले जाना मैं वही पर इस सवाल का जवाब दूंगा |

 

अगले दिन तेनाली (tenali raman) साधू जी को अपने साथ राजा के सामने ले जाता है | तेनाली (tenali raman) राजा को साधू के बारे बताते  हुए कहता है की महाराज आपके सवालो का जवाब यह साधू जी देंगे | तब राजा  साधू का स्वागत कर उनको विराजमान होने को कहते है |

 

राजा साधू से पूछता है की  यदि भगवान  हर जगह विराजमान है तो इस अंगूठी मे भी भगवान है यह बात साबित कर के दिखाओ ?

यह सुन साधू बोलता है महाराज मुझे बहुत प्यास लगी है मुझे एक गिलास दहि चाहिए |

राजा तुरंत  एक गिलास दहि साधू जी के लिए मँगवाते है | दहि को देखते ही साधू  यह बोलते हुए की इसमे मक्खन तो है ही नहीं ! दहि पीने से माना कर देते है | साधू जी बोलते है मैं माखन वाली दहि से ही अपनी प्यास बुझाऊँगा |

 

तब राजा अपने दरबारी से अपने राज्य की सबसे अच्छी दहि का प्रबंध करने को बोलते है | कुछ देर बाद साधू जी के लिए राज्य  की सबसे अच्छी दहि साधू जी के लिए दरबार मे लाई जाती है | 

 

साधू जी दहि को जैसे ही हाथ मे ले कर देखते है तो फिर से दहि पीने से मना कर देते है और फिर से वही बात दोहराते है की इसमे मक्खन तो है ही नहीं अब मेरी प्यास कैसे बुझेगी क्या मुझे प्यासा ही इस दरबार से जाना होगा ?

tenali raman stories-अंगूठी मे भगवान

साधू की इतनी बात सुन राजा चकित हो जाता है और बोलता है साधू जी यह आप क्या बोल रहे है यह दहि राज्य की सबसे अच्छी दहि है | 

तब साधू जी बोलते है यदि ऐसा है तो मुझे मक्खन क्यो नहीं दिखाई दे रहा इसमे | 

तब राजा बोलते है ! साधू जी !  क्या आपको इतनी सी बात नहीं पता की  दहि को बिना मथे  , भला मक्खन कैसे दिखाई दे सकता है | tenali raman stories-अंगूठी मे भगवान

 

इतना सुन साधू जी ज़ोर से हस्ते है और बोलते है– यही तो मैं आपको समझाने आया हु की   जैसे इस  दहि मे मक्खन विराजमान  है और दिखाई नहीं देता ठीक उसी प्रकार भगवान भी इस संसार मे विराजमान है पर दिखाई नहीं देते उन्हे सिर्फ अनुभव किया जा सकता है उनकी मौजूदगी का एहसास किया जा सकता है | और यह एहसास तभी होता है जब इंसान की  भगवान पर सच्ची  श्रद्धा और आस्था होती है | 

 

भगवान को मन की आखो से देखा जा सकता उन्हे महसूस किया जा सकता है | जिस इंसान को भगवान पर सच्ची श्रद्धा और आस्था होती है भगवान उसे अपने दर्शन जरूर देते है  सिर्फ वही इंसान ही भगवान के चमत्कारो को समझ सकता है और उनकी मौजूदगी को अनुभव कर सकता है | किसी भी चीज को मानने और समझने के लिए उस पर विश्वास करना  अति आवश्यक है |tenali raman stories-अंगूठी मे भगवान

 

इस संसार मे जो कुछ होता है उसी ईश्वर की परम शक्ति की वजह से होता है | इस समय भी जो हो रहा है सब उनकी मर्जी से हो रहा है | मेरा यहाँ आना और आपको इस बात का ज्ञान देना की भगवान हर जगह उपस्थित और उन्हे विश्वास की आखो से देखा और अनुभव किया जा सकता है | यह सब उसी इसश्वर की माया है |

ऐसा मैं इसलिए बोल रहा हूँ क्योकि मुझे यह सब कुछ अनुभव होता है ऐसा इसलिए होता है क्योकि मुझे इन सब पर बहुत विश्वास है | 

इतना बोल साधू जी अपनी बात को खत्म करते है |

 

राजा साधू की इन बातों को सुन बहुत शर्मिंदा होता है और राजा को इस बात पर यकीन हो जाता है की भगवान सब जगह विराजमान है | राजा साधू जी का धन्यवाद  करता हुआ बोलता है  – हे साधू महात्मा ! आप धन्य है आपने मेरे मन पर पड़े अविश्वास के पर्दे को अपने ज्ञान से हटा दिया , मैं बहुत भाग्यशाली हु की मुझ पर अल्लाह की किरपा हुई है |, 

 

|tenali raman stories-अंगूठी मे भगवान 

 

 

तो दोस्तो इस कहानी से हमे यह सीख मिलती है की यदि आपकी ईश्वर पर पूरी आस्था है विश्वास है तो आपको ईश्वर की मौजूदगी  का एहसास जरूर होगा | 

 

हम अपने इस ब्लॉग पर आप लोगो के लिए एसी ही तमाम ज्ञान से भरे किस्से कहनियों का रोचक सफर लाते रहते है जिनहे पढ़ कर न सिर मनोरंजन होता है बल्कि बहुत सी जरूरी बाते भी सीखने को मिलती है | तो इन कहानियों को जरूर शेयर कर दिया करो ताकि बाकी लोग भी कहानियो को पढ़ कर आनंद और ज्ञान हासिल कर सके |

 

बीरबल की चतुराई भरे किस्से कहानियाँ 

 

जरूर पढ़े – तेनाली रामा के किस्से 

 

विक्रम बेताल की कहानियाँ 

जरूर पढ़े – तेनाली रमण vs ब्रम्भ्ण

 

ज्ञान से भरी किस्से कहानियों का रोचक सफर | यहाँ मिलेंगे आपको तेनाली रामा और बीरबल की चतुराई से भरे किस्से ,  विक्रम बेताल की कहनियों का रोचक सफर , भगवान बुद्ध  कहानियाँ , success and motivational stories और ज्ञान से भरी धार्मिक कहानियाँ 

 

moral-stories-in-hindi

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

chanakya niti ki anmol bate | चाणक्य शस्त्र Chanakya niti | झूठ बोलने वाली पत्नी chanakya niti | इन बातों को समझ गए तो रिश्ते कभी खराब नहीं होंगे chanakya niti hindi me chanakya niti | chanakya golden thoughts chanakya niti | life change quotes chanakya niti | इन 5 परिस्थितियों मे हमेशा चुप रहो chanakya niti | life change thoughts chanakya niti | चाणक्य के अनमोल वचन chanakya thoughts for life