page contents
Vikram-Betal-Stories-in-Hindi

ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi (विक्रम बेताल स्टोरीस इन हिन्दी)  दोस्तों स्वागत है आपका ज्ञान से भरी  कहानियों की इस रोचक दुनिया मे। दोस्तों जीवन मे कहानियों का विशेस महत्तव होता है | क्योकि इन कहानियो के माध्यम से हमे बहुत कुछ सीखने को मिलता है |

इन कहानियों के माध्यम से आपको ज़रूरी ज्ञान हासिल होंगे जो आपको आपकी लाइफ मे बहुत काम आएंगे | यहाँ पर बताई गई हर कहानी से आपको एक नई सीख मिलेगी जो आपके जीवन मे बहुत काम आएगी | हर कहानी मे कुछ न कुछ संदेश और सीख (moral )छुपी हुई है | तो ऐसी कहानियो को ज़रूर पढ़े और अपने दोस्तो और परिवारों मे भी ज़रूर शेयर करे |

 

50 रोचक कहानियाँ | Vikram Betal Stories in Hindi

 

 

 

Vikram Betal Stories in Hindi-विक्रम बेताल की रोचक कहानियां

vikram-betal

 

बेताल द्वारा राजा विक्रम (Vikram) को सुनाई गई पच्चीस कहानियों मे से एक कहानी आज  बताई जाएगी  जिसमे  पहली कहानी पिछले आर्टिकल मे बता दी गई है |

बेताल द्वारा राजा विक्रम को सुनाई गई इन सभी कहानियों का उल्लेख “बेताल पच्चीसी” नामक  एक किताब मे मिलता है यह किताब बेताल भट्ट जी द्वारा आज से  लगभग 2500 वर्ष पहले  लिखी  गई थी जो की राजा विक्रमा दित्य के 9 रत्नो मे से एक थे |

यहाँ पर इस किताब का नाम “बेताल पच्चीसी” इसलिए रखा गया है क्योंकि इस किताब मे बेताल द्वारा विक्रमादित्य को सुनाई गई 25 कहानियों के बारे मे बताया गया है यह किताब उन्ही 25 कहानियों पर आधारित है |

 

 

कहानी शुरू करने से पहले बेताल राजा को फिर से वही बात बोलता है की मैं कहानी के खत्म होते ही तुमसे (राजा विक्रम) कहानी से जुड़ा कोई प्रश्न पूछूंगा  यदि राजा विक्रम ने उसके प्रश्न का सही  उत्तर ना दिया तो वह राजा विक्रम को मार देगा। और अगर राजा विक्रम ने जवाब देने के लिए मुंह खोला तो वह रूठ कर फिर से  पेड़ पर जा कर उल्टा लटक जाएगा।

 

तो चलिये शुरू करते है हमारी आज की कहानी 

कहानी 6 – ज्यादा पापी कौन ?  (बेताल पच्चीसी भाग -6) 

 

बहुत पुराने समय की बात है भारत के उत्तर मे  न्होगमती नाम की एक नागरी हुआ करती थी। उस नगरी के राजा का नाम रूपसेन था | राजा के पास एक बहुत समझदार और भविस्य देखने  वाला तोता था जिसका नाम था चिंतामणी| एक दिन राजा ने तोते से पूछा की बताओ मेरा विवाह किसके साथ होगा ? 

 

 

तोते ने कहा, “ आपका विवाह मगध देश के राजा की बेटी चन्द्रावती के साथ होगा।” राजा ने ज्योतिषी को बुलाकर पूछा तो उसने भी यही कहा।

 

 

उधर मगध देश की राज-कन्या के पास एक मैना थी। उसका नाम था मदन मञ्जरी। एक दिन राज-कन्या के मन मे शादी का  विचर आया तो उसने मैना  से पूछा कि मेरा विवाह किसके साथ होगा तो मैना बोली आपका विवाह   भोगवती नगर के राजा रूपसेन के साथ।ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi 

 

इसके बाद ठीक दो साल बाद  दोनों को विवाह हो जाता है । रानी के साथ उसकी मैना भी आ गयी। राजा-रानी ने तोता-मैना का ब्याह करके उन्हें एक पिंजड़े में रख दिया।

कुछ दिन बाद  तोता-मैना में बहस हो गयी। मैना ने कहा, “आदमी बड़ा पापी, दग़ाबाज़ और अधर्मी होता है।”

यह सुन तोता भी बोला की  “स्त्री झूठी, लालची और हत्यारी होती है।” दोनों का झगड़ा बढ़ गया तो राजा ने कहा, “क्या बात है, तुम आपस में लड़ते क्यों हो?”

मैना ने कहा, “महाराज, मर्द बड़े बुरे होते हैं।”राजा ने मैना से पूछा ऐसा क्यो कह रही हो ? तब मैना ने राजा को  एक कहानी सुनायी।

 

ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

 

 

यहां click करे – विक्रम बेताल की पहली कहानी तांत्रिक की चाल  (बेताल पच्चीसी)

यहां click करे- विक्रम बेताल कहानी भाग-2 जादुई टापू  (बेताल पच्चीसी)

यहां click करे- विक्रम बेताल कहानी भाग-3  राजकुमारी का विवाह (पांपी कौन ?) (बेताल पच्चीसी)

यहां click करे- विक्रम बेताल कहानी भाग-4  पति कौन? (बेताल -पच्चीसी)

यहां click करे- विक्रम बेताल कहानी भाग-5  सिपाही सहित पूरे परिवार की बलि (पुण्य किसका) (बेताल पच्चीसी)

 

 

मैना कहानी सुनते हुए बोलती है | ईलापुर नाम का एक नगर था जहां महाधन नाम का एक सेठ रहा करता था । उस सेठ की शादी के बहुत दिनो बाद एक  पुत्र का जन्म होता है |

 

 सेठ ने अपने पुत्र का बड़ी अच्छी तरह से लालन-पालन किया, पर लड़का बड़ा होकर किसी गलत संगत की वजह से  जुआ खेलने लगा। इस बीच सेठ की अचानक मृत्यु हो जाती है | उधर सेठ का लड़का जूएँ की गंदी लत मे अंधा होकर  अपना सारा धन जुए में खो देता है |

 

 

ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

 लड़का जुए मे सब कुछ हारने के बाद  नगर छोड़कर चन्द्रपुरी नामक नगरी में जा पहुँचा। वहाँ हेमगुप्त नाम का साहूकार रहता था।  लड़का साहूकार के पास जाता हैं और अपने माता पिता का परिचय देने के बाद एक झूठी कहानी बताते हुए  बोलता है की मैं जहाज़ लेकर सौदागरी करने गया था।

 

माल बेचने के बाद धन कमाकर जब जहाज़ से वापिस लौट रहा था तो बहुत ज़ोर का एक तूफान आया | मेरा जहाज़ बहुत पुराना था जिस वजह से वह उस तूफान का सामना न कर पाया | धीरे धीरे पानी जहाज मे घुसने लगा  | जहाज किनारे से कुछ ही दूर था लेकिन तब तक जहाज़ मे जादा पानी भर जाने की वजह से जहाज़ डूब जाता है | जहाज़ मे रखा मेरा सारा धन भी डूब जाता है |ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

 

गरिमत यह रही की मैं तैरना जनता था तो तैर कर किसी तरहा  किनारे पर आजाता हु| और बच जाता हु | सेठ लड़के की सारी बाते सूने के बाद अपना दुख प्रकट करता है | बोलता है की आपके साथ बहुत बुरा हुआ , पर चलो ज़िंदगी बच गई यह अच्छी बात है और पैसे तो फिर भी कमाए जा सकते है लेकिन जिंदगी दोबारा नहीं मिलती | ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

 

इतना बोलने के बाद सेठ उसे अपने घर पर एक  नोकरी पर रख लेता है | वहाँ वह लड़का पूरी मेहनत और ईमानदारी से कम करता है | यह देख सेठ को अच्छा लगता है सेठ मन मे सोचने लगता है की लड़का ईमानदार है और मेहनती भी , तो क्यों न मैं इसकी शादी अपनी बेटी से कर दू ? इतना सोचते ही सेठ  उस लड़के के सामने   उससे अपनी बेटी की शादी करने का प्रस्ताव रखता है |

ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

यह सुन लड़का बहुत प्रसन्न होता है और तुरंत शादी के लिए हा कर देता है | दोनों की शादी कर दी जाती है | दोनों उसी घर मे रहने लगते है | लेकिन कुछ दिन बाद लड़का सेठ बोलता है मै वही  वापिस जाना चाहता हु जहां हमारा घर था | मैं वहा  नया घर लूँगा और वही रहूँगा | सेठ बोला ठीक है जैसी आपकी इच्छा |सेठ बहुत सारा धन उस लड़के को दे देता है औए साथ मे एक नौकरनी भी  ताकि उसकी बेटी को कोई परेशानी न हो |ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

 

 

अब लड़का अपनी पत्नी और नौकरानी को लेकर अपने घर की तरफ निकाल पड़ता है |

रास्ते में एक जंगल पड़ता था। इतना सोना देख कर लड़के का कपट फिर से जाग  गया | वहाँ आकर लड़के ने अपनी पत्नी  से कहा, “यहाँ बहुत खतरा है, डाकू चोर अक्सर इस जंगल मे घूमते रहते है  तुम अपने गहने उतारकर मेरी कमर में बाँध दो, पत्नी  ने ऐसा ही किया। इसके बाद लड़के ने कहारों को धन देकर डोले को वापस करा दिया और जो दासी थी  उसको को मारकर कुएँ में डाल दिया। फिर अपनी पत्नी  को भी कुएँ में पटककर आगे बढ़ गया।ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

 

 

पत्नी खूब  रोने लगी। एक मुसाफ़िर उधर जा रहा था। जंगल में रोने की आवाज़ सुनकर वह वहाँ आया उसे कुएँ से निकालकर उसके घर पहुँचा दिया।

 

पत्नी ने घर जाकर माँ-बाप से कह दिया कि रास्ते में चोरों ने हमारे गहने छीन लिये और दासी को मारकर, मुझे कुएँ में ढकेलकर, भाग गये। बाप ने उसे धागा  बँधाया और कहा कि तू चिन्ता मत कर। तेरा स्वामी जीवित होगा और किसी दिन आ जायेगा।

 

ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

उधर वह लड़का जेवर लेकर शहर पहुँचा। और फिर से वही जुआ खेलने लगा । वह सारे गहने जुए में हार गया। उसकी बुरी हालत हुई तो वह यह बहाना बनाकर कि उसके लड़का हुआ है, फिर अपनी ससुराल चला। वहाँ पहुँचते ही सबसे पहले उसकी स्त्री मिली। वह बड़ी खुश हुई। उसने पति से कहा, “आप कोई चिन्ता न करें, मैंने यहाँ आकर दूसरी ही बात कही है।” जो कहा था, वह उसने बता दिया।

ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi

 

सेठ अपने जमाई से मिलकर बड़े प्रसन्न हुए और उन्होंने उसे बड़ी अच्छी तरह से घर में रखा।

कुछ दिन बाद एक रोज़ जब वह लड़की गहने पहने सो रही थी, उसने चुपचाप छुरी से उसे मार डाला और उसके गहने लेकर चम्पत हो गया।

मैना बोली, “महाराज, यह सब मैंने अपनी आँखों से देखा। इतना पापी – कपटी होता है आदमी!”

 

 

मैना की कहानी सुनने के बाद राजा ने तोते से कहा, “अब तुम बताओ कि स्त्री क्यों बुरी होती है?”

इस पर तोता अपनी कहानी सुनते हुए बोलता है की !-

 

तोते की कहानी पढ़ने के लिए नीचे पेज नंबर 2 पर click करे 

 

 

4 thoughts on “ज्यादा पापी कौन? Vikram Betal Stories in Hindi”

  1. Pingback: thoughts in hindi and english | Mauryamotivation.com

  2. Pingback: 50 moral stories in hindi  | Mauryamotivation.com

  3. Pingback: akbar birbal ki kahaniyan | विश्वास और मनोकामना का राज़ | Mauryamotivation.com

  4. Pingback: Vikram Betal Stories in Hindi | तांत्रिक की चाल | Mauryamotivation.com

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

chanakya niti ki anmol bate | चाणक्य शस्त्र Chanakya niti | झूठ बोलने वाली पत्नी chanakya niti | इन बातों को समझ गए तो रिश्ते कभी खराब नहीं होंगे chanakya niti hindi me chanakya niti | chanakya golden thoughts chanakya niti | life change quotes chanakya niti | इन 5 परिस्थितियों मे हमेशा चुप रहो chanakya niti | life change thoughts chanakya niti | चाणक्य के अनमोल वचन chanakya thoughts for life