page contents

Neeraj Chopra Biography hindi | नीरज चोपड़ा जीवनी | tokyo olympics 2021

नमसकर  दोस्तो आज हम नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय, भाला फेंक एथलीट | Neeraj Chopra Biography in Hindi | Neeraj Chopra Javelin Throw player | tokyo olympics 2021 के बारे मे विस्तार से जानने वाले है | आज Neeraj Chopra Biography से आपको बहुत जादा प्रेरणा मिलने वाली है |

नीरज चोपड़ा आज कल बहुत जादा सुर्खियों मे है और हो भी क्यो न | अभी हाल ही मे 2021 tokyo olympics मे नीरज चोपड़ा ने भाला फैक (Javelin Throw) प्रतियोगिता मे शानदार प्रदर्शन करते हुए 87.58 मीटर भाला फैक का ना सिर्फ  गोल्ड मैडल अपने नाम किया बल्कि इतनी दूरी तक भाला फैक कर नया विश्व recod भी बना दिया |

इसी के साथ नीरज चोपड़ा पहले एसे भारतीय खिलाड़ी बन गए जिन्होने 2021 tokyo olympics मे भारत को स्वर्ण पदक (Gold medal) दिलवाया | 

Olympics के इतिहास मे भारत को अब तक 9 स्वर्ण पदक मिले थे लेकिन Neeraj Chopra  के अद्भुत प्रयास से भारत को दसवां स्वर्ण पदक भी मिल गया है |

 

 सिर्फ यही नहीं नीरज चोपड़ा अब तक अनेकों पुरस्कार और मेडल हासिल कर चुके है | वर्तमान मे Neeraj Chopra  महज 23 साल के है | विदेशो मे भारत की सफलता का झण्डा गाड़ चुके नीरज चोपड़ा को आर्मी मे नौकरी भी दी गई |

चलिये  जानते है आखिर कैसे ,एक साधारण किसान परिवार मे जन्मे बच्चे ने भाला फैक (Javelin Throw) मे एसी महारथ  हासिल कर ली और 23 साल की उम्र तक आते आते वो इस खेल मे विश्व चेम्पियन बन गया |

 

नीरज चोपड़ा जीवनी | Neeraj Chopra biography Hindi

Neeraj Chopra Personal Biodata
पूरा नाम (Full Name)  नीरज चोपड़ा
जन्म दिन (Date of Birth) 24 दिसंबर 1997
जन्म स्थान (Birth Place) गाँव खान्द्रा – पानीपत ,हरियाणा 
उम्र (Age) 23 साल  (in 2021)
राष्ट्रियता (Nationality)   भारतीय (Indian)
कद (Hight) 6 फीट 
भार (weight)   80 kg
माता का नाम (Mother Name)  सरोज देवी 
पिता का नाम (Father Name) सतीश कुमार
शिक्षा (Education)  स्नातक (graduate)
नौकरी (job) आर्मी ऑफिसर 
धर्म (Religion)  हिन्दू (Hindu)
जाती मराठा 
खेल प्रतिस्पर्धा    भाला फेंक (Javelin Throw)
कोच  उवे हॉन

 

  

नीरज चोपड़ा का जन्म हरियाणा राज्य के पानीपत शहर मे एक गाँव खान्द्रा मे हुआ | इनका जन्म एक किसान परिवार मे हुआ यह परिवार एक जाइंट परिवार है | नीरज चोपड़ा के पिता एक किसान है और माता एक ग्राहिनी है |

 शुद्ध घी दूध दहि के सेवन से 11 साल की उमम्र तक नीरज चोपड़ा का वजन बहुत जादा बढ़ चुका था |  मोटापे की वजह से भारी भरकम शरीर को देख कर इनके साथी दोस्त और गाँव के बच्चे यह बोल कर  इनका मज़ाक उड़ाने लगे थे की तुम तो गाँव के सरपंच की तरह दिखते हो तुम तो अंकल लग रहे हो |

 

 

सिर्फ यही नहीं इतने जादा बढ़ते वजन को देख परिवार वालो ने नीरज को कसरत करने और खेल कूद का सहारा लेने पर ज़ोर दिया |

जिसके बाद से वह वजन कम करने के लिए पानीपत के शिव जी स्टेडियम मे जाने लगे | 

 

Neeraj Chopra – भाला फेकने की जर्नी

आम बच्चो की तरह उनकी पसंद भी क्रिकेट हुआ करती थी स्टेडियम मे जाकर उन्होने कई एथलीट्स खिलाड़ी बच्चो को भाला फेकते हुए देखा | यानि वो लोग जेवलीन थ्रो की प्रेक्टिस कर रहे थे |

 

जेवलीन थ्रो कर रहे बच्चो को देख नीरज के मन मे आया की मैं तो इनसे भी जादा दूर भाला फैक सकता हूँ | 

Advertisement

फिर उन्होने जब उन बच्चो के साथ भाला फ़ैकना शुरू किया तो वाकई उनकी जैवलीन थ्रो उन बच्चो के मुक़ाबले काफी दूर तक गई | यह अद्भुत प्रदर्शन देख स्टेडियम मे मौजूद कोच जब यह देखा तो उनको एक बार फिर से भाला फाइकने को कहा |

बेहतर प्रदर्शन को देखते हुए कोच ने जेवलीन थ्रो की ट्रेनिंग देने का निर्णय लिया |

बस यही से शुरू हुआ सफर जैवलीन थ्रो की अद्भुत जर्नी का | नीरज चोपड़ा ने जैवलीन थ्रो को ही करियर के रूप मे चुनाव कर लिया |

 

नीरज चोपड़ा पढ़ाई – Niraj Chopara Education

भाला फेकनी की प्रेक्टिस के साथ साथ  नीरज चोपड़ा ने अपनी पढ़ाई भी जारी रखी|

2021 तक आते आते नीरज चोपड़ा ने अपनी स्नातक (graduation) की पढ़ाई पूरी कर ली |

 

नीरज चोपड़ा कोच (coach)

नीरज चोपड़ा के कोच का नाम उवे होन हैं जो कि जर्मनी देश के बेहतरीन  पेशेवर जैवलिन एथलीट रह चुके हैं। तमाम राज्य स्तरीय  तक की जेवलीन थ्रो खेल प्र्तियोगिताए जीतने के बाद जब लक्ष्य अंतराष्ट्रीय खेलो मे स्वर्ण पदक लाने का  बना तब इनकी ट्रेनिंग के लिए बेहतरीन ट्रेनर को खोजा जाने लगा | तब जर्मनी के उवे होन एक बहतरीन जेवलीन थ्रो ट्रेनर के रूप मे उभरे | इनसे ट्रेनिंग लेने के बाद ही नीरज चोपड़ा इतना अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं.

 

 

मेडल्स जीतने की जर्नी – Neeraj Chopra Medals

नीरज चोपड़ा ने बचपन से ही यानि 11 साल की उम्र से ही भाला फैक (Javelin Throw) खेल मे रुचि लेते हुए प्रैक्टिस आरंभ कर दी थी | जिसके चलते खूब संघर्ष और मेहनत के बाद ….

जब साल 2012 में लखनऊ में अंडर 16 नेशनल जूनियर चैंपियनशिप का आयोजन किया गया तब उस खेल मे नीरज चोपड़ा ने भाग लिया वह पहली बार नीरज चोपड़ा ने 68.46 मीटर भाला फेंक कर गोल्ड मेडल को हासिल किया था |

 

Neeraj-Chopra

Neeraj Chopra jivni

 

इसके बाद साल 2013 मे नेशनल यूथ चैंपियनशिप में नीरज चोपड़ा ने दूसरा स्थान हासिल किया था | सिर्फ यही नहीं इसी वर्ष मे आयोजित आईएएएफ वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में भी नीरज चोपड़ा ने अपनी पोजीशन बरकरार रखी |

इसके बाद साल 2015 मे नीरज चोपड़ा ने इंटर यूनिवर्सिटी चैंपियनशिप में भी हिस्सा लिया यहाँ पर नीरज चोपड़ा ने 81.04 मीटर थ्रो फेंककर एज़ ग्रुप का एक रिकॉर्ड तोड़ते हुए एक नया रिकॉर्ड अपने नाम किया |  

सफलता का कारवां यही नहीं रुका ….|

साल 2016 पोलैंड मे आयोजित जूनियर विश्व चैंपियनशिप मे नीरज चोपड़ा ने हिस्सा लिया | इस खेल प्रतियोगिता मे 86.48 मीटर भाला फेंक कर न सिर्फ नया रिकॉर्ड बना दिया बल्कि इस प्रतियोगिता को जीतते हुए स्वर्ण पदक अपने नाम किया | 

 

Neeraj Chopra को आर्मी मे मिली जॉब 

इसी उपबद्धि की वजह  से उन्हे आर्मी मे  जूनियर कमीशन के तौर पर नियुक्ति मिल गई थी | आर्मी मे जॉब मिलने के बाद एक interview मे नीरज चोपड़ा ने कहा था की मेरे पिता एक किसान है आय का अच्छा साधन नहीं है मेरा परिवार एक जाइंट परिवार है घर की जीविका चलाना अब तक कठिन था लेकिन अपने परिवार मै अब अकेला सरकरी नौकरी वाला इंसान हु जिसकी मुझे बहुत खुशी है अब मै सही तरीके से अपने परिवार की जीविका चला पाऊँगा | अपनी ट्रेनिंग जारी रखने के साथ साथ अपने परिवार की अब मै अर्थ्क मड्ड भी कर सकता हूँ |

Advertisement

 

दक्षिण एशियाई खेलों मे फिर से  जीता स्वर्म पदक 

इसके बाद उसी वर्ष साल 2016 मे नीरज चोपड़ा ने दक्षिण एशियाई खेलो मे हिस्सा लिया और उसमे पहले ही राउंड मे 82.23 मीटर की थ्रो फेंककर गोल्ड मेडल को प्राप्त किया।

इस तरह 2016 मे आयोजित साउथ एशियन गेम्स मे नीरज चोपड़ा ने 83.02 मीटर की दूरी तक भाला फेक कर अपना पहला अंतराष्ट्रीय स्वर्ण पदक जीता |

राष्ट्र मण्डल खेलों मे जीता स्वर्ण पदक 

इसके बाद साल 2018 मे नीरज चोपड़ा ने ऑस्ट्रेलिया के क्रिसलेंड शहर मे आयोजित राष्ट्रमण्डल खेल यानी कॉमनवेल्थ गेम्स गोल्ड कोस्ट मे हिस्सा लेकर 86.47 मीटर भाला फेंकते हुए गोल्ड मैडल अपने नाम कर लिया |

इस एतिहासिक जीत के बाद भारत का सीना गर्व से फूल गया | पूरा भारत नीरज चोपड़ा को इस जीत की खूब बधाइयाँ दे रहा था |

सिर्फ यही नहीं इसके बाद उसी वर्ष जकार्ता मे आयोजित एशियन गेम्स मे हिस्सा लिया यहाँ पर भी जबर्दस्त रिकॉर्ड बनाते हुए 88.06 मीटर भाला  फेंक कर गोल्ड मैडल अपने नाम किया और पूरे भारत नाम विशाव भार मे रोशन कर दिया |

हम आपको बता दे की एशियन गेम्स मे गोल्ड मेडल प्रपट करने वाले नीरज चोपड़ा पहले भारतीय एवं जैवलीन थोवर है | और इसी के साथ एक ही साल मे एशियन और कॉमनवेल्थ गेम्स मे गोल्ड मैडल जीतने वाले दूसरे खिलाड़ी है | 

1958 मे एक ही वर्ष दो बार गोल्ड मैडल जीतने का पहला रिकॉर्ड मिलखा सिंह के नाम है |

 

कंधो मे हुई इंजरी

इसके बाद एक प्रेक्टिस के दौरान नीरज के कंधो मे इंजरी हो गई | जिस वजह से नीरज को एक साल तक गेम्स से दूर रहना पड़ा | इसके बाद साल 2020 लोक डाउन की वजह से कोई खेल प्रतियोगिते नहीं हो पाई |

 

फिर साल आया 2021 का जिसमे महीनो पहले ही नीरज ने अपनी प्रेक्टिस  जोरों से शुरू कर दी |

 

2021 tokyo olympics कैसे जीता स्वर्ण पदक 

समय आया अगस्त 2021 का जिसमे 23 जुलाई को जापान के टोक्यो शहर मे ओलेम्पिक का भव्य आयोजन किया गया | इस खेल अंतराष्ट्रीय खेल प्र्तियोगिताओं मे दुनिया भार के दिग्गज खिलाड़ियों ने शिरकत ही और  हिस्सा लिया | 

2021 के इस  tokyo olympics मे भारत के 119 खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया जिनमे से जिनमे 67 पुरुष और 52 महिला खिलाड़ी शामिल थी | इस ओलेम्पिक मे भारतीय खिलाड़ियों का याएह सबसे बड़ा दल था |

सभी मैच skedule के अनुसार प्रारम्भ हो गए | tokyo olympics नीरज चोपड़ा अपना शानदार प्रदर्शन दिखते हुए फाइनल मैच तक पहुँच गए | फाइनल मैच 7 अगस्त बुधवार शाम 4:30 बजे आयोजित किया गया |

अपनी बारी आने पर नीरज चोपड़ा अपना अद्भुत प्रदर्शन दिखाते हुए  पूरी ताकत से एस भाला फेंका की जेवलीन थ्रो इतिहास के सभी रिकॉर्ड तोड़ते हुए भाला 87.58 मीटर दूर जाकर गिरा | अगले 4 राउंड मे कोई भी खिलाड़ी इस डिस्टेन्स को तोड़ नहीं पाया | 

इसी के साथ नीरज चोपड़ा ने पहले नंबर पर बरकरा रहते हुए शानदार जीत हासिल की और स्वर्ण पदक जीत कर इतिहास के पन्नो मे अपना नाम दर्ज कराया |

ये रिकॉर्ड खुद मे ही इतना अद्भुत है की भविष्य मे बड़े से बड़े महारथी के लिए इस रिकॉर्ड को तोड़ पाना बहुत मुश्किल होगा |

इस  तरह 2021 tokyo olympics  मे पहला स्वर्ण पदक जीत कर नीरज चोपड़ा ने रचा पहला इतिहास |

Advertisement

Olympics के अब तक के इतिहास मे भारत को भाला फैक (Javelin Throw) मे स्वर्ण पदक तो छोड़ो कोई भी पदक नहीं मिला था | लेकिन यह सपना नीरज चोपड़ा ने सच्च कर दिखाया | 

 

Neeraj Chopra करोड़ो रुपए इनाम मिले 

 

इन तमाम सफलताओं के बाद सरकार की तरफ से अब तक नीरज चोपड़ा को कितने पैसे और इनाम मिल चुके है |?

सफलता के कई इतिहास रचने के साथ साथ अपने परिवार के दिन भी बदल दिये है | जी हाँ , अब नीरज चोपड़ा अब एक करोड़ पति इन्सानो मे गिने जाने लगे है |

  • नीरज चोपड़ा को हरियाणा सरकार की तरफ से 6 करोड़ रुपए नकद एक आलीशान प्लाट और ए वन क्लास की सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है |
  • वहीं रेलवे ने नीरज चोपड़ा को 3 करोड़ रुपए देने का ऐलान किया है |
  • पंजाब सरकार ने नीरज चोपड़ा को 2 करोड़ देने का ऐलान किया है |
  • मणिपुर सरकार ने भी नीरज चोपड़ा को 1 करोड़ रुपए देने का ऐलान किया है 
  • BCCI ने नीरज चोपड़ा को एक करोड़ रुपए देने का ऐलान किया है |
  • चेन्नई सुपरकिंग्स ने नीरज चोपड़ा को एक करोड़ रुपए देने का ऐलान किया है |
  • भारतीय ओलेम्पिक संघ (IOC) ने नीरज चोपड़ा को 75 लाख रुपए  देने का ऐलान किया है |
  • आनंद महेंद्र ने नीरज चोपड़ा को एक suv गाड़ी देने का ऐलान किया है |

 

हफ्ते भर मे ही नीरज चोपड़ा पर इनामो की बौछार हो चुकी है | उम्मीद है आगे भी कई राज्य सरकरे और बड़ी कंपनियाँ नीरज चोपड़ा को इनाम के रूप मे कुछ न कुछ देने का ऐलान कर सकती है |

इचलिये कुछ जरूरी सवालो के जवाब जानते है |

Q : नीरज चोपड़ा कौन है ?

Ans : भारतीय एथलीट , भाला फेंक खिलाड़ी

Q : नीरज चोपड़ा की उम्र कितनी है ?

Ans : 23 साल (in 2021) 

Q : नीरज चोपड़ा की हाइट कितनी है ?

Ans : 5 फुट 10 इंच

Q : नीरज चोपड़ा की जाति क्या है ?

Ans : हिन्दू रोर मराठा

Q : नीरज चोपड़ा की सैलरी कितनी है ?

Ans : 1 से 5 मिलियन डॉलर के आसपास

Q : नीरज चोपड़ा का ओलिंपिक 2021 का बेस्ट थ्रो कितना है ?

Ans : 87.58 मीटर

Advertisement

Q : जेवलिन थ्रो के लिए ओलंपिक रिकॉर्ड कितना मीटर है ?

Ans : 90.57 मीटर

 

Neeraj Chopra biography निसकर्ष 

(नीरज चोपड़ा का जीवन परिचय, भाला फेंक एथलीट | Neeraj Chopra Biography in Hindi | Neeraj Chopra Javelin Throw player | tokyo olympics 2021 निष्कर्ष)

तो दोस्तो नीरज चोपड़ा की यह अद्भुत जीवनी Neeraj Chopra biography आपको कैसी लगी कमेन्ट करके जरूर बताना | Neeraj Chopra biography से आज आपने क्या सीखा | आज नीरज चोपड़ा तमाम भारतीय खिलाड़ियों के लिए रोल मॉडल और इन्स्पिरेशन बन चुके है |

 

आप भी नीरज चोपड़ा से प्रेरित होकर जीवन नए नए कीर्तिमान बनाए और सफलता हासिल करे  | 

 

इन्हे भी पढ़े 

Mirabai chanu jeevni

saikhom-Mirabai-chanu

 

 

जरूर पढ़े- maikal felps की रोंगटे खड़े कर देने वाली Inspirational story

Inspirational-story

यहाँ click करे -2 रुपये से 500 करोड़ तक -kalpana saroj success story in hindi

success-story-in-hindi

Advertisement

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *