page contents

birbal ki kahani | असली मालिक कौन

नमस्कार दोस्तों ! स्वागत हो आप सभी का एक बार फिर से akbar birbal ki kahani मे. यहां हम रोज बीरबल की चतुराई से भरे वो किस्से लेकर आते है जिसे पढ़ने के बाद मुंह से “वाह” निकलता है.

तो चलिए पढ़ते है आज की कहानी –

 

 

birbal ki kahani | एक पेड़ दो मालिक

एक बार बादशाह अकबर के नगर मे राघव और केशव नाम के दो व्यक्ति अपने घर के बाहर लगे एक आम के पेड़ पर अपने अपने मालिकाना हक को लेकर झगड़ पड़े | मुद्दा बशाह अकबर के दरबार मे पहुंचा |

दोनों व्यक्तियों ने अपनी अपनी दलीले पेश की |  दोनों व्यक्तियों का कहना था कि वे ही आम के पेड़ के असल मालिक हैं और दुसरा व्यक्ति झूठ बोल रहा है। 

 

उस आम के पेड़ के फल खाने मे इतने स्वादिष्ट थे की दोनों मे से कोई भी इस दावे से पीछे हटने को राज़ी नहीं था की ये आम का पेड़ मेरा है और इस पेड़ के सारे फलो का हकदार मै ही हूँ | 

मामले की सच्चाई जानने के लिए अकबर ने राघव और केशव के आसपास रहने वाले लोगो के बयान सुनते हैं। पर कोई फायदा नहीं हो पाता है।

akbar-birbal-ki-kahani

 सभी लोग कहते हैं कि दोनों ही पेड़ को पानी देते थे। और दोनों ही पेड़ के आसपास कई बार देखे गए है.  

 

पेड़ की निगरानी करने वाले चौकीदार के बयान से भी साफ नहीं हुआ की पेड़ का असली मालिक राघव है कि केशव है, क्योंकि राघव और केशव दोनों ही पेड़ की रखवाली करने के लिए चौकीदार को पैसे देते थे।

अंत में अकबर थक हार कर अपने चतुर सलाहकार मंत्री बीरबल की सहायता लेते हैं। 

 

 बीरबल तुरंत ही मामले की जड़ पकड़ लेते है। पर उन्हे बादशाह अकबर के सामने  सबूत के साथ मामला साबित करना होता है कि कौन सा पक्ष सही है और कौन सा झूठा। इस लिए वह एक नाटक रचते हैं।

 

बीरबल आम के पेड़ की चौकीदारी करने वाले चौकीदार को एक रात अपने पास रोक लेते हैं। 

उसके बाद बीरबल उसी रात को अपने दो भरोसेमंद व्यक्तियों को अलग अलग राघव और केशव के घर “झूठे समाचार” के साथ भेज देते हैं। और समाचार देने के बाद छुप कर घर में होने वाली बातचीत सुनने का निर्देश देते हैं।

 

Advertisement

केशव के घर पहुंचा व्यक्ति बताता है कि आम के पेड़ के पास कुछ अज्ञात व्यक्ति पके हुए आम चुराने की फिराक में है।आप जा कर देख लीजिये। 

यह खबर देते वक्त केशव घर पर नहीं होता है, पर केशव के घर आते ही उसकी पत्नी यह खबर केशव को सुनाती है।

 

केशव बोलता है,  “हां… हां… सुन लिया अब खाना लगा। वैसे भी बादशाह के दरबार में अभी फेसला होना बाकी है… पता नही हमे मिलेगा कि नहीं। और खाली पेट चोरों से लड़ने की ताकत कहाँ से आएगी; वैसे भी चोरों के पास तो आजकल हथियार भी होते हैं।”

 

आदेश अनुसार “झूठा समाचार” पहुंचाने वाला व्यक्ति केशव की यह बात सुनकर बीरबल को बता देता है।

 

उधर,  राघव के घर पहुंचा व्यक्ति बताता है, “आप के आम के पेड़ के पास कुछ अज्ञात व्यक्ति पके हुए आम चुराने की फिराक में है। आप जा कर देख लीजियेगा।”

 

यह खबर देते वक्त राघव भी अपने घर पर नहीं होता है, पर राघव के घर आते ही उसकी पत्नी यह खबर राघव को सुनाती है।

 

राघव आव देखता है न ताव, फ़ौरन लाठी उठता है और पेड़ की ओर भागता है। 

 

उसकी पत्नी आवाज लगाती है, अरे खाना तो खा लो फिर जाना… राघव जवाब देता है कि… खाना भागा नहीं जाएगा पर हमारे आम के पेड़ से आम चोरी हो गए तो वह वापस नहीं आएंगे… इतना बोल कर राघव दौड़ता हुआ पेड़ के पास चला जाता है।

 

आदेश अनुसार “झूठा समाचार”  पहुंचाने वाला व्यक्ति बीरबल को सारी बात बता देते हैं।

 

दूसरे दिन अकबर के दरबार में राघव और केशव को बुलाया जाता है। और बीरबल रात को किए हुए परीक्षण का वृतांत बादशाह अकबर को सुना देते हैं जिसमे भेजे गए दोनों व्यक्ति गवाही देते हैं।

 

 अकबर राघव को आम के पेड़ का मालिक घोषित करते हैं। और केशव को पेड़ पर झूठा दावा करने के लिए कडा दंड देते हैं। तथा मामले को बुद्धि पूर्वक, चतुराई से सुल्झाने के लिए बीरबल की प्रशंशा करते हैं।

Advertisement

 

सच ही तो है,  

जो व्यक्ति परिश्रम कर के अपनी किसी वस्तु या संपत्ति का जतन करता है उसे उसकी परवाह अधिक होती है।

इस तरह बीरबल ने फिर से साबित कर दिया की बीरबल एक चतुर बुद्दि के मालिक है |

इस akbar birbal kahani से शिक्षा :-

सत्य की हमेशा जीत होती है ठगी करने वाले व्यक्ति को अंत में दण्डित होना ही पड़ता है, यह प्रकृति का नियम है।

 

तो दोस्तो बीरबल की यह चतुराई आपको कैसी लगी |

दोस्तों हमारी  हमेशा से यही कोशिश रहती है की हम  इस blog पर आपके लिए ज्ञान और शिक्षा  से भरी ऐसी ही तमाम कहानियाँ लाते रहे जिससे आपका ज्ञान बढ़ सके , बौद्धिक विकास हो सके ,जीवन मे सही फैसले ले सके , आप जीवन मे आगे बढ़ सके , मन मे सकरत्म्क विचारो का जन्म हो और  आपके सुंदर चरित्र का निर्माण हो ताकि आप आगे चल केआर सुंदर परिवार और समाज का निर्माण कर सके |

हम चाहते है की यह कहानियाँ जादा से जादा लोगो तक पहुंचे ताकी वह भी इसका पूरा लाभ उठा सके इसलिए आप इन कहानियों को social media की मदद से अपने सभी दोस्तों मे अवश्य शेयर करे | आपका ये छोटा सा प्रयास कई लोगो की जिंदगी भी बदल सकता है |

Akbar birbal की और भी तमाम अद्भुत कहानियाँ 

 

  • मनहूस आदमी -अकबर -बीरबल stories 

 

 

बीरबल की चतुराई और बुद्धिमानी से भरे रोचक किस्से कहानियों का सफर

 

 बीरबल की बुद्धिमानी से भरी तीन रोचक कहानियाँ 

akbar-birbal

akbar-birbal

जरूर पढ़े – अंगूठी चोर | 

akbar-birbal

akbar-birbal

  बीरबल ने दिखाई अपनी कमाल की बुद्धिमानी – बीरबल ने सुलझाया दो साहूकार के बीच लगी शर्त का किस्सा 

 

akbar-birbal

akbar-birbal

जरूर पढ़े – विश्वास और मनोकामना का राज | बिना भगवान का मंदिर |

Advertisement

 

akbar-birbal

 

 

ज्ञान से भरी किस्से कहानियों का रोचक सफर | यहाँ मिलेंगे आपको तेनाली रामा और बीरबल की चतुराई से भरे किस्से ,  विक्रम बेताल की कहनियों का रोचक सफर , भगवान बुद्ध  की कहानियाँ , success and motivational stories और ज्ञान से भरी धार्मिक कहानियाँ 

 

moral-stories-in-hindi

 

 

 

 

 

 

Advertisement

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *