page contents

true love hindi story | सच्चा प्यार 

true love hindi story – नमसकर दोस्तो स्वागत है आपका सब का हमारे इस ब्लॉग पर |आज हम आपके लिए एक ऐसी true love

 story लेकर आए है जिसे पढ़ने के बाद आप सच्चे प्यार का सही मतलब समझ जाओगे | saccha pyar क्या होता है चलिये जानते है इस कहानी से |

true love hindi story सच्चा प्यार 

true-love-hindi-tory

आदित्य और प्रिया एक एक दूसरे से बेहद प्यार करते थे वो दोनों एक ही कॉलेज मे एक ही क्लास मे पढ़ते थे. 

 

अब दोनों का कॉलेज मे पढ़ाई का आखिरी ही साल बचा हुआ था. 

एक दिन प्रिया और आदित्य एक पार्क मे घूमने के लिए गए तब प्रिया ने आदित्य से पूछा की आदित्य बताओ ! तुम मुझसे कितना प्यार करते हो? तुम मुझसे शादी करोगे भी, या फिर यूँ ही प्यार तक ही सीमित रहेगा हमारा प्रेम. 

 

तभी आदित्य ने प्रिया से कहा, की प्रिया आज तुम मुझसे ये केसा सवाल पूछ रही हो? 

प्रिया बोली – आदित्य ये सवाल मैं आज तुमसे इसलिए पूछ रही हूं की अब हमारा कॉलेज का आखरी साल है. और मैं तुमसे बेहद प्यार करती हूं और मैं मन ही मन तुम्हे सब कुछ अपना मान बैठी हूं. 

 

तो अगर तुमने मुझे कभी छोड़ भी दिया, तो भी मैं तुम्हे भूल नहीं पाऊँगी. ये कहते ही प्रिया की आँखो मे आंसू आगए. 

 

प्रिया को इस तरह रोते देख आदित्य ने सबसे पहले उसके आंसू पोचे और फिर अपनी बाहो मे लें लिया 

और फिर उससे ये कहा की अरे पहली मैंने तुम्हे छोड़ने के लिए थोड़ो इतनी ही इतनी शिद्द्त से चाहा है. हमारा प्यार जय जन्मो तक रहेगा. 

 

और हाँ मैं जल्द ही अपने परिवार को साथ लेकर आपके घर लें कर आऊंगा हमारी  शादी की बात करने के लिए. 

 

ये सुनते ही प्रिया बहुत खुश हो गई. और ख़ुशी के मारे आदित्य की बाहो मे लिपट गई. 

 

Advertisement

और फिर वो दोनों ही अपने अपने घर चले गए . 

 

अब कुछ ही महीनों मे दोनों के कॉलेज की पढ़ाई भी पूरी हो चुकीं थीं. अब दिन पर दिन आदित्य और प्रिया का प्यार भी परवान चढ़ते जा रहा था. 

 

एक दिन आदित्य प्रिया से फोन करके कहता है है की प्रिया आज मैं अपने माता पिता के साथ तुम्हारे घर आरहा हूं. तुम्हारे मेरे रिश्ते की बात करने. 

 

ये बात सुनकर प्रिया बहुत खुश होकर आदित्य से कहती है की आदित्य, आज तो तुमने मुझे सरप्राइज ही कर दिया. तुम जल्दी आजाओ और मैं जल्दी ही तैयार हो जाती है. 

 

तो करीब एक घंटे मे ही आदित्य और उसके माँ बाप प्रिया के घर पहुंचते है. लेकिन ज़ब आदित्य प्रिया के घर पहुँचता है तो वो क्या देखता है की प्रिया घर तो बहुत बड़ा है. और वह मन ही मन यह सोचता है की शायद प्रिया के पिता जी बहुत अमीर है. 

लेकिन हमारा परिवार तो इनके आगे कुसग भी नहीं. 

 

ये सोचते हुए आदित्य ने प्रिया के घर की बेल बजाई.  बेल बजते ही प्रिया समझ जाती है की आदित्य आगया. 

 

प्रिया खुद जा कर दरवाज़ा खोलती है. और फिर वह आदित्य के परिवार का स्वागत करती है. 

 

और उन्हें अंदर लेकर जाती है अंदर जाते ही आदित्य के माता पिता इतने बड़े घर को देख कर ये सोचते है की पता नहीं प्रिया के पिता जी ये रिश्ता करेंगे या नहीं. तभी अचानक प्रिया के पिता जी भी आजाते है. और सभी के लिए नाश्ता पानी मंगवाते है. 

 

तभी आदित्य के पिता ने आदित्य और प्रिया के रिश्ते की बात शुरू की. तब प्रिया के पिता ने आदित्य से पूछा से पूछा की बेटा तुम काम क्या करते हो, तब आदित्य ने बड़ी ही प्यार से कहा की अंकल जी मैंने रेलवे मे बड़ी पोस्ट पर फॉर्म भर रखा है. 

 

और मैंने उसके पेपर भी दे दिये है. और बस अब रिजल्ट आना बाक़ी है वो भी जल्दी ही आ जाएगी. 

Advertisement

तभी प्रिया के पिता जी ने फिर से पूछा की उस रेलवे की पोस्ट पर तुम्हारी सैलरी कितनी होगी. 

 

तो आदित्य ने कहा, अंकल जी यही कुछ 30 हज़ार के आस पास. 

ये सुनते ही प्रिया के पिता जी ने आदित्य से गुरुर भरे स्वाभाव से  कहा…. क्या?  बस तीस हज़ार, अरे 30 हज़ार तो मेरी बेटी 10 दिन मे खर्च कर देती है. और तुम्हे शायद ये भी नहीं पता होगा की मेरी बेटी प्रिया हर हफ्ते 8 से 10 हज़ार की तो बाहर शॉपिंग कर के ही खर्च कर देती है. ये सुनते ही आदित्य के पिता ने भी गुस्से मे प्रिया के पिता जी से यह कह दिया की आपको अपनी धन दौलत बहुत गुरुर है. ऐसा है, रखिये अपनी धन दौलत अपने पास और अपनी बेटी की शादी की करोड़पति लड़के से करवाना. 

 

तभी वो अपने बेटे आदित्य का हाथ पकड़ कर ये कहते है की चलो बेटा, हम तेरा रिश्ता कहीं और करवा देंगे. 

 

तभी आदित्य प्रिया के पिता के आगे हाथ जोड़ कर ये कहता है की, अंकल जी मैं आपकी बेटी से बेहद प्यार करता हूं और प्रिया भी मुझसे बहुत प्यार करती है. 

 

तो अंकल प्लीज इस रिश्ते को पैसों की नजर से ना देखें और इस रिश्ते को अपनी मंजूरी दे दीजिये. और आपसे मैं वादा करता हूं की मैं आपकी बेटी को जरा भी दुःखी नहीं रखूँगा. 

 

प्रिया भी बोल उठी की पिता जी मैं भी आदित्य से बेहद प्यार करती हूं और मैं उसके सिवा किसी और से शादी नहीं करूंगी. 

 

प्रिया के पिता गुस्से मत तो थे ही और ये सुन कर गुस्सा और बढ़ गया और बेटी की एक थप्पड़ मार दिया. 

 

सच्चे प्यार की इस video clip को जरूर देखो |

 

 

तभी प्रिया रोती  हुई अपने कमरे मे चली गई. वहीं आदित्य और उसके माता पिता बहुत निराश होकर वहाँ से चले गए. 

Advertisement

 

कुछ ही समय बाद प्रिया के पिता ने प्रिया की, एक बड़े घर मे शादी तय कर दी. 

और उन्होंने एक महीने मे जबरदस्ती प्रिया की सगाई करवा दी. 

उधर आदित्य की रेलवे मे नौकरी भी लग चुकीं थीं. 

 

तब एक दिन अचानक प्रिया ने आदित्य को फोन करके ये कहा की आदित्य तुम कहा चले गए थे, मैंने कितनी बार तुम्हारा नंबर मिलाया. 

लेकिन तुम्हारा नंबर बंद जा रहा था. 

 

और मैंने  अपनी सहेली को भी कितनी बार तुम्हारे घर पर भेजा था. 

 

मगर तुम्हारे घर तो तला लगा हुआ था. फिर मुझे तुम्हारा एक दोस्त मिला. तो मैंने उससे तुम्हारा नंबर लेकर तुम्हे फोन किया है मेरे पिता जी ने मेरी सगाई. जबरदस्ती ही किसी और से करवा दी. लेकिन मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकती. तुम जल्दी यहां आजाओ आदित्य. वरना मैं अपनी जान दे दूंगी. 

 

तब आदित्य ने कहा की प्रिया ! मैं भी तुमसे बेहद प्यार करता हूं. लेकिन plz तुम ऐसा कोई भी कदम मत उठाना की जिसकी वजह से तुम्हारे घर वालो शर्मिंदा होना पड़े. और प्रिया अगर हमारा प्यार सच्चा है तो हमें मिले से और एक होने मे कोई नहीं रो सकता. 

 

और प्रिया अगर हमने घर से भाग कर शादी कर भी ली तो तुम्हे पता है जीवन के आने वाले वक्त मे हमारे बच्चे भी ऐसा ही करेंगे. और तब सिवाए शर्मिंदा होने के  हम कुछ बोल नहीं पाएंगे.. 

 

इसलिए प्रिया हमें हमारे प्यार पर पूरा विश्वास रखना चाहिए.और उस भगवान पर भी जिसने हम दोनों सच्चा प्यार करवाया. 

 

अब बस तुम वैसा ही करो जैसा तुम्हारे घर वाले कह रहे है ये बात कहते हुए आदित्य की आँखो मे आंसू आरहे थे. लेकिन उसने अपना सारा दर्द छुपाते हुए प्रिया को गलत कदम उठाने से बचा लिया. 

अब प्रिया ने रोते हुए आदित्य से ये कहा की आदित्य मैं तुम्हारे कहने से अपने परिवार की बात मानकर ये शादी जरूर करुँगी लेकिन ये बात याद रखना की शादी करके किसी और के पास सिर्फ मेरा शरीर ही जाएगा. मन और आत्मा तुम्हारे पास ही रहेगी.इतना कहते हुए प्रिया रोती हुई फोन को काट देती है. 

Advertisement

 

उधर आदित्य भी बहुत रोता हुआ जमीन पर बैठ जाता है. अब प्रिया की शादी का दिन भी आगया उसके घर तक लड़के वालो की बारात आगई थीं. 

 

तभी अचानक प्रिया ज़ब दुल्हन के जोड़े मे सीढ़ियों से नीचे उतर रही थीं… वैसे ही उसे चककर आगये और वो चक्कर  खा कर  सीढ़ियों से घसीटती  हुई नीचे की तरफ गिरती गई. 

 

प्रिया के सर और पैर मे बहुत ज़ादा चोट लग गई थीं. और शायद उसके पैर की हड्डी भी टूट गई थीं. 

 

तभी प्रिया के पिता जी ने फोन करके एम्बुलेंस बुलवाई. प्रिया को तुरंत हॉस्पिटल मे एडमिट किया गया. प्रिया का इलाज चला. 

 

ये बात आदित्य तक पहुंची. आदित्य अपने परिवार और दोस्तों सहित हॉस्पिटल पंहुचा. 

 

आदित्य को देख प्रिया के पिता बहुत गुस्से मे आदित्य को देखने लगे लेकिन कुछ बोल नहीं पाए क्योंकि वहाँ पर दूल्हे और उसके परिवार वाले भी मौजूद थे. 

 

कुछ ही देर बाद डॉक्टर ऑपरेशन रूम से बाहर निकला और बोला की अब आपकी बेटी ठीक है. लेकिन उसके पैर की हड्डी टूटने की वजह से अब उसका पैर हमेशा टेढ़ा दिखाई देगा. चलने फिरने मे थोड़ी बहुत परेशानी आएगी बाक़ी ठीक है. 

यह सुन प्रिया के होने वाले ससुर ने इस शादी को इन्कार कर दिया. तभी प्रिया के पिता जी उसके आगे हाथ जोड़ कर बोले की अरे ऐसा मत करिये आप इस शादी के लिए कैसे मना कर सकते है. सब तैयारियां हो चुकीं है. और अब आप एक दम वक़्त पर अब इस शादी को मना कर रहे हो. 

 

किर्प्या समधी की आप इस शादी को मना मत करें. आप चाहे तो मुझसे 10 से 15 लाख रुपए और लें लीजिये लेकिन मेरी बेटी को अपना लीजिये. 

 

तभी दूल्हे के बाप प्रिया के पिता का हाथ हटाते हुए बोला की नहीं नहीं ऐसा नहीं हो सकता. 15 लाख दे कर आप हमारे बेटे को खरीदना चाहते हो.. नहीं ऐसा हरगिज़ नहीं होगा और प्रिया की शादी मैं अपने बेटे साथ इसलिए करवा रहा था क्योंकि वो बहुत सुंदर थीं. और अब तो उसका पैर ही टूट गया और हमारे यहां इसको अपशगुन कहते है. 

 

Advertisement

इसलिए मैं अभी ये रिश्ता पूरी तरह तोड़ता हूं. ये कहकर वो अपने बेटे को लेकर वहाँ से चले जाते है. इस बात को लेकर प्रिया के पिता जी हॉस्पिटल मे रोने लगते है और माथा पकड़ कर बैठ जाते है. 

 

उनको अब  वो सारी बात याद आने लगती है जो उन्होंने आदित्य को और उनके घर वालो को कहीं थीं. जिस प्रकार धन के गुरुर मे उनकी बेज्जती की थीं उसी प्रकार आज उसी की बेज्जती करके लड़के वाले बारात लेकर वापिस लौट गए. 

 

इतने मे नर्स प्रिया को स्ट्रेचर पर लेकर कमरे से बाहर आती है. प्रिया अपने पिता को यूँ मायूस और रोता देख खुद भी रोने लगती है. पिता ने प्रिया को सब बताया की अभी अभी तेरे ससुर ये रिश्ता तोड़ कर चले गए है. 

 

तभी प्रिया अपने पिता का हौसला बढ़ाते हुए कहती है की पिता जी जो होता है अच्छे के लिए ही होता है.  और रही बात दूल्हा और बारात की तो बिलकुल आपके सामने ही खड़े है. 

 

प्रिया के पिता जी ने आंसू पोछते हुए सर उठा कर देखा तो सामने आदित्य और उसके माता पिता दोस्त सब लोग हाथे जोड़े खड़े थे. 

 

तभी प्रिया बोलती है पिता जी अब फैसला आपके हाथो मे है आपको अपनी धन दौलत के बराबरी वाला रिश्ता चाहिए या फिर आपकी इज़्ज़त करने वाला और मुझसे सच्चा प्यार करने वाला मुझे हमेशा खुश रख skevesa दामाद चाहिए. 

 

प्रिया की पिता जी अपने किये पर बहुत शर्मिंदा थे वो अब हाथ जोड़ कर आदित्य और उनके माता पिता से हाथ जोड़ कर माफ़ी मांगते हुए कहते है की मैं दौलत की घमंड मे अंधा आप सब का बहुत अपमान किया मुझे क्षमा करना. 

 

तभी आदित्य के पिता जी बोले. अरे नहीं छोड़िये पुरानी बातों को अब बस आप प्रिया और आदित्य की शादी का इंतज़ाम कीजिये. 

 

निस्कर्स. 

 

तो देखा दोस्तों, ग़र प्यार सच्चा होता है तो ईश्वर अपना माया से सच्चे प्यार करने वालों को किसी ना किसी तरह मिलवा ही देता है. 

 

Advertisement

तो दोस्तों ये saccha pyar true love hindi story आपको कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताना. 

 

इन्हे भी जरूर पढ़े =

जरूर पढ़े – झूठे मोहोब्बत की 6 निशानियाँ 

true love hindi story | सच्चा प्यार 

इन्हे भी जरूर पढ़े –

 

 

 

Advertisement

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *