page contents

best 3 Hindi short moral stories for kids

Hindi short moral stories for kids – यदि आप बच्चो के लिए moral stories खोज रहे हो तो आप बिलकुल सही जगह पर आए हो. 

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका 🙏 ! बच्चो के लिए ज्ञान से भरी hindi short moral stories मे. 

 

बच्चो के ज्ञान को विकसित करने और जीवन की अनमोल सीख देने के लिए ये छोटी छोटी शिक्षा प्रद कहानियाँ बहुत मददगार सिद्ध होती है.

अद्भुत ज्ञान से भरी ये short moral stories अपने अंदर अनमोल सीख समेटे होती है. जिसे बच्चो को रोचक  कहानी के माध्यम से बहुत आसानी से समझाया जा सकता है

 

कुत्ता और पानी – Hindi short moral stories

Hindi-short-moral-stories
Hindi stories for kids

एक नगर मे एक कुत्ता रहता था. कुछ दिनों से उसने कुछ नहीं खाया था. इस वजह से कुत्ता बहुत भूखा था.

कुत्ता खाने की तलाश मे नगर मे घूमता हुआ एक बाजार मे पंहुचा.

वहाँ पर कुत्ते की नाक मे तरह तरह के पकवानो की खुशबु आरही थीं.

 

इससे कुत्ते को और ज़ादा भूख लगने लगी. अचानक कुत्ते की नजर एक मांस की दुकान पर पड़ी.

 

वहाँ पर बहुत सारे मछलियां काट कर रखी हुई थीं.कुत्ता चुपके से उस दुकान के कुछ नजदीक गया तो उसने देखा की नीचे मांस का एक बड़ा टुकड़ा गिरा हुआ है .

 

यह देख कुत्ते की ख़ुशी का ठिकाना ना रहा.. कुत्ता राल टपकाता हुआ तुरंत चुपके से उस मांस के पास पंहुचा और मास को मुँह मे लेकर अपने दांतो तले दबा लिया..

 

और ये सोच कर तुरंत किसी एकांत स्थान की और भाग निकला. की कोई और कुत्ता मेरे मास को छीन ना लें.

 

चलता चलता कुत्ता एक छोटे से पुल के ऊपर पंहुचा की उसकी नजर पुल के नीचे पानी मे पड़ी.

 

Advertisement

उसने देखा की ये क्या.. ये पानी मे एक और कुत्ता है और उसके मुँह मे भी मांस का टुकड़ा है. (जबकि वो उसी कुत्ते की ही परछाई थीं.)

 

वो कुत्ता बहुत कमजोर दिखाई दे रहा था. ये देख कुत्ते के मन मे लालच आगया की क्यों ना मैं इसे डरा कर इसका टुकड़ा भी लें लू..फिर तो पेट भर कर खाऊंगा.

 

कुत्ते ने उसे डराने के लिए जैसे ही जोर जोर से भोकने के लिए अपना मुँह खोला उसी समय कुत्ते के मुँह मे रखा मांस का टुकड़ा भी उस पानी मे गिर गया.

 

 

पानी मे मांस का टुकड़ा गिरते ही पानी मे बनी कुत्ते की परछाई दिखना भी बंद हो गई.

कुत्ते को अपनी मूर्खता और लालच पर बहुत पछतावा हुआ.. कुत्ता भूखा रह गया.

 

इस Hindi stories for kids से हमने क्या सीखा ?

तो दोस्तों इस कहानी से हमें दो सीख मिलती है.

  • पहली ये की लालच करना बुरी बात है.
  • दूसरी सीख – खाते समय कभी मुँह नहीं खोलना चाहिए यानी खाते हुए मुँह बंद करके ही खाना चाहिए.

लालच और गुस्सा सोचने समझने और संयम से काम लेने की क्षमता को खत्म कर देता है.

 

इसलिए जितना है उतने मे ख़ुश रहे लालच मत करे.. वरना वी भी खो दोगे जो तुम्हारे पास है.

 

उम्मीद करता हूं की ये hindi stories for kids आपको पसंद आई होगी. 

 

चलिए अब बढ़ते है अपनी अगली hindi moral stories की तरफ 

मच्छर से मिला ज्ञान | hindi short moral stories for kids

 

Hindi-short-moral-stories

Advertisement

एक बार एक किसान अपने खेतो मे बहुत मेहनत करने के बाद थक कर आराम करने के लिए एक घने पेड़ की छाँव के नीचे बैठ गया.

 

उसी समय दो तीन मच्छर आए, और किसान के हाथ पैर के ऊपर बैठ कर किसान का खून चूसने लगे.

 

किसान को हाथ पैर मे ज़ब जोर दार खुजली महसूस हुई तो उसका ध्यान उन मच्छरों की तरफ गया.

 

किसान ने  उन मच्छरों को अपने हाथ से झिटक कर उड़ा दिया.

लेकिन वो तो ठहरे मच्छर भला वो कहाँ मानने वाले थे. उनका तो काम ही खून चूसना था.

कुछ देर बाद मच्छर फिर से किसान का खून चूसने पहुंच गए.

 

अब मच्छर भी सतर्क हो चुके थे. इसलिए इस बार जैसे ही किसान ने अपने छोटे पंजे बना कर मच्छरों पर जोर दार हमला किया मच्छर तुरंत उड़ गए.

किसान भी अपनी जिद्द और आलस की वजह से उस स्थान को छोड़ कर जाना ही नहीं चाहता था. 

कुछ देर तक यही चलता रहा. खुजला खुजला कर किसान का हाथ पूरा लाल हो चुका था. दाने भी निकल आए.

 

 

अब किसान का दिमाग़ खराब हो चुका था. किसान ने ठान लिया की अब इन मच्छरों को मार कर ही दम लूंगा.

 

अबकी बार एक मच्छर जैसे ही किसान के गाल पर बैठा.. किसान ने आव देखा ना ताव बस जोर दार तमाचा अपने ही गाल पर धर दिया.. मच्छर तो मरा नहीं लेकिन किसान का गाल जरूर लाल हो गया.

 

दर्द की वजह से किसान गाल को सहलाता हुआ वहाँ से उठ कर दूसरे पेड़ की ओर चला गया.

Advertisement

 

इस Hindi short moral stories से हमने का सीखा?

दोस्तों इस short moral story से हमें ये सीख मिलती है की मूर्खो से बहस करना खुद के लिए ही नुकसान दायक होता है.

जैसा की आपने इस कहानी मे देखा की किसान चाहता तो उठ कर दूसरी जगह जा सकता था लेकिन अपनी जिद्द वजह से मच्छरों से पंगे लें बैठा.

जबकि ये जानते हुए भी की ये मच्छर है इनका तो काम ही खून चूसना है.

 

तो दोस्तों ठीक इन मच्छरों की जीवन मे कुछ ऐसे (मुर्ख ओर बत्तमीज़) लोग होते है जिनके मु लगना बहस करना ठीक ऐसा ही होता है जैसे अपने गाल पर बैठे मच्छर को मारना.

यानी आपका तमाचा आपके मुँह पर ही लगेगा. इसलिए बेहतर होगा की मुर्ख ओर बत्तमीज़ लोगो से दूर ही रहे.

 

 

उम्मीद करता हूं की ये hindi stories for kids आपको पसंद आई होगी.

चलिए अब बढ़ते है अपनी अगली hindi moral stories की तरफ.

 

 

 

चींटी और घमंडी हाथी |hindi short moral stories for kids 

Hindi-moral-stories-kids
Hindi moral stories kids

एक बार की बात है एक हाथी मस्त अपने ग़ुरूर  मे झूमता हुआ चला आ रहा था.

 

हाथी को खुद के विशाल काय शरीर और ताकत पर बहुत घमंड हो गया था.

 

क्योंकि हाथी के इतने विशाल शरीर से जंगल का हर जानवर डरता था.

 

Advertisement

यहां तक की शेर भी हाथी से दूर ही रहता था. हाथी अपनी धुन मे मगन हुआ चला आरहा था.

 

की अचानक हाथी की नजर जमीन मे चलती हुई खूब सारी चीटियों पर पड़ी जो की सर पर चावल का दाना लिए एक लम्बी लाइन मे चली जा रही थी.

 

हाथी रुका और उन चीटियों पर जोर जोर से हसने लगा. और बोलने लगा मे चाहू तो तुम सब को एक बार मे मसल कर रख दू.

 

चीटियां  ! हाथी की बातो को नजर अंदाज़ कर के चलती रही.

इतने मे हाथी ने अपना एक पैर जोर से जमीन मे मारा. जिस वजह से जमीन मे कम्पन हुई और चीटियों का संतुलन बिगड़ने की वजह से सारा अनाज नीचे गिर गया.

 

अब चीटियों को हाथी की इस हरकत पर बहुत क्रोध आया.

 

चीटियां बोली. तुम जान बुझ कर हमसे उलझ रहे हो.. आख़री बार बोल रही हूं हमसे पंगा मत लो.

 

यह सुन हाथी और जोर जोर से हसने लगा और चीटियों के छोटे से शरीर का मज़ाक उड़ाते हुए बोला की तुम कमजोर सि चीटियां मेरा कुछ नहीं उखाड़ सकती.

 

इस तरह हाथी उन चीटियों के शरीर का मज़ाक उड़ाते हुए हसता रहा..

चीटियों को बहुत क्रोध आया और चीटियों ने सलाह बनाई की इस हाथी को अपनी ताकत पर बहुत घमंड है.इसे सबक सिखाना ही पड़ेगा.

 

बस फिर क्या था सभी चीटियों ने हाथी के शरीर पर हमला करते हुए हाथी के शरीर पर चढ़ गई.

कुछ चीटियां हाथी की सूंड मे घुस गई तो कुछ हाथी के कानो मे.

Advertisement

जिस वजह से हाथी की हालत खराब हो गई.कान के अंदर घुसी चीटियों ने ज़ब काटना शुरू किया तो हाथी को जोर दार पीड़ा हुई.

 

हाथी चिल्लाते हुए दर्द के मारे इधर उधर भागने लगा..

अंततः हाथी का संतुलन बिगड़ा और धड़ाम से जमीन पर गिरा.हाथी चीटियों से माफ़ी मांगने लगा.

तब जाकर चीटियां हाथी के कान और सूंड से बाहर निकली. और चली गई. इस तरह हाथी का घमंड चूर चूर हो गया. 

 

 

Moral form this short story.

तो दोस्तों इस short moral story से हमें दो सीख मिलती है.

  • पहला ये की अपनी ताकत का कभी घमंड नहीं करना चाहिए.हमेशा विनम्र रहो.
  • और दूसरी सीख ये मिलती है की किसी के शरीर का मज़ाक नहीं उड़ाना चाहिए.
  • जैसा की आपने इस कहानी मे देखा की. छोटी छोटी चीटियों ने मिलकर इतने बड़े विशाल काय हाथी को उसकी औकात दिखा दी.

और हाथी की  सब ताकत धरि की धरी रह गई.

यानी किसी को कमजोर मत समझो. ईश्वर सब को अद्भुत शक्ति और बुद्धि से नवाज़ा है.

 

तो दोस्तों  उम्मीद करता हूं की आज की ये short moral stories आपको बहुत पसंद आई होंगी. 

इन  hindi short moral stories kids से आपको बहुत कुछ सीखने को मिला होगा. 

 

अपने बच्चो के जीवन का सही मार्गदर्शन करने के लिए उन्हें रोज ऐसी ही ज्ञान से भरी कहानियों सुनते रहिये. और अनमोल ज्ञान से परिचित करवाते रहिये. 

 

 

 

 

Advertisement

ज्ञान से भरी Hindi moral story की इस अद्भुत video को 👉🎧 लगा कर एक बार जरूर देखो 🎥

 

तो दोस्तों ज्ञान से भरी यह video कैसी लगी? ऐसी ही और भी तमाम videos देखने के लिए नीचे दिये गए लाल बटन पर clik करो (दबाओ) 👉

 

Hindi-moral-stories
Hindi moral stories videos

 

Advertisement

Leave a Comment