page contents

dharmik kahani | shri guru nanak biography hindi

dharmik kahani गुरु नानक देव जी की शिक्षाप्रद कहानी – दोस्तों स्वागत हैं आपका ज्ञान और शिक्षा  से भरी गुरु नानक देव जी की dharmik kahani मे | गुरु नानक देव जी की इन कहानियों मे  हमे  सदैव सदकर्म एवं सत्कर्म करने की प्रेरणा मिलती है |गुरुनानक देव जी के जीवन कर्मो को जान कर हमे अद्भुत ज्ञान की प्राप्ति होती है|

तो हम गुरु नानक देव जी की महिमा का बखान करते हुए उनके ज्ञान को एक सच्ची कहानी के रूप मे आप तक लेकर आए है जिसे पढ़ने के बाद आपके जीवन मे सकारात्मक प्रभाव होगा |

 

तो चलिये जानते है ज्ञान से  भरे उनके जीवन की  अद्भुत गाथा के बारे मे|

 

dharmik kahani गुरु नानक देव जी की शिक्षाप्रद कहानी

 

dharmik-kahani

गाथा शुरू होती हैं, उस समय से जब भारत मे चारो तरफ अधर्म, कुकर्म और लोगो मे अन्धविश्वास फैला हुआ था. धर्म और जात के नाम पर एक दूसरे मे नफरत की आग फ़ैल चुकी थी.

 

उस समय भारत मे मुग़लो का शासन था.मुग़ल लोग भारतीय लोगो पर खूब अत्याचार कर रहे  थे . मंदिर  तोड़े जा रहे थे ,धर्म पर गहरा आघात किया जा रहा था.

लोगो का जबरन धर्म परिवर्तन करवाया जा रहा था और जो नहीं करता उसे भयानक मौत दे दी जाती.dharmik kahani

 

मुग़ल शासक अपनी मनमानी करतें. मुगलो के हुक्म की नाफरमानी पर या फिर जो उनके जुल्मों के खिलाफ अपनी आवाज उठाता उन लोगो को मौत के घाट उतार दिया जाता.

ऐसे मे जनता मुगलो के इस जुल्म से तंग आ चुकी थी. चारो तरफ त्राहि त्राहि थी.

 

ऐसे मे लोगो को सही मार्ग दिखाने, लोगो के मन मे फैले धार्मिक अंधविश्वास को दूर करने,धरती पर एक महान पुरुष ईश्वर का अवतार गुरु नानक देव जी का  जन्म हुआ.

 

dharmik kahani

 

श्री गुरु नानक देव जी सिक्ख धर्म के पहले गुरु है |ईश्वर कवतर कहे जाने वाले  गुरु जी का  जन्म संसार मे धर्म कर्म के प्रति अज्ञानता को दूर करने अथवा लोगो मे अंधविश्वासों को दूर करने के साथ साथ लोगो को सदमार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करने हेतु हुआ  | गुरु नानक देव जी का रूप बहुत ही अद्भुत और तेजस्वी है वह इस संसार मे लोगो लो सदमार्ग एवं सत्कर्म पर चलाने हेतु अवतरित हुए  |

Advertisement

 

 

dharmik-kahani

 

shri guru nanak biography hindi

उनके पिता जी का नाम बाबा कालूचंद्र बेदी और माता जी का नाम त्रिपता जी है |श्री गुरु नानक देव जी का जन्म 15अप्रैल,1469 में पाकिस्तान से 65 किलोमीटर दूर पश्चिम मे ,शेखपुरा डिस्टिक के एक  गाँव तलवंडी साबों” मे हुआ |यह स्थान ननकाना साहिब के नाम से प्रसिद्ध अब पाकिस्तान मे हैं.

 

जन्म के कुछ दिन बाद बहुत ही विद्वान पंडित पिता महता कालू के घर आए. पंडित जी ने नानक जी के मुख मण्डल तेज को देखते ही बता दिया की यह ईश्वर जे अवतार हैं. लोगो को सदमार्ग पर चलाने तथा सत्कर्म करने के उद्देश्य से धरती पर इनका जन्म हुआ हैं.

 

गुरु नानक देव जी से पहले माँ त्रिप्ता जी ने 3 साल पहले एक बेटी को जन्म दिया था उनका नाम नानकी था. उन्ही के नाम पर गुरु जी का नाम नानक रखा गया.

 

dharmik kahani | shri guru nanak biography hindi

dharmik kahani

श्री गुरु नानक देव जी का बचपन तलवंडी गांव मे गुजरा. नानक जी का मन बचपन से ही अध्यात्म और प्रभु की भक्ति मे लगा रहता था. अपने दोस्तों के साथ जब खेल कूद के लिए जाते तो कुछ देर खेलने के बाद नानक जी दूर एकांत मे जाकर बैठ जाते और आँखे बंद करके ईश्वर का चिंतन किया करते.

 

अपने बाल्य काल में श्री गुरु नानक जी नें कई प्रादेशिक भाषाएँ सिखा जैसे फारसी और अरबी।

7-8 साल की उम्र मे स्कूल छूट गया. क्योंकि नानक जी के  प्रश्नों के आगे अध्यापक ने भी हार मान ली थी .परेशान होकर अध्यापक ने इन्हे घर भेज दिया.

dharmik-kahani

तब से दोबारा नानक जी स्कूल नहीं गए तब से वह अपना अधिकतर समय ईश्वर के चिंतन और सत्संग मे ही लगाया करते.

पिता महता कालू बचपन से ही नानक की ईश्वर के प्रति अधिक समय तक इस भक्ति को देख परेशान रहने लगे.

नानक जी के पिता ने अब उन्हें भैसे चराने का काम दे दिया.नानक जी भैसों को चराने ज़ब गए तो वही पर बैठ कर प्रभु के चिंतन मे मगन हो  गए. इतने मे सभी भैसे वही से कुछ दूर खेतो मे जा पहुंची. खेतो मे लगी लगभग सारी फसल को बुरी तरह से भैसों ने कुचल डाली था .

Advertisement

dharmik kahani

 

किसानो ने खेतो मे हो रही भैसों की इस जोरदार हलचल को सुना तो दौड़ कर आए और किसी तरह अन्य किसानो की मदद से सभी भैसों को खेतो से निकाला.

सभी किसान नानक जी की शिकायत करने पिता महता कालू के घर जा पहुंचे.

पिता महता कालू किसानो के साथ जब खेत पहुचे तो वहाँ सब फसल बिलकुल सही सलामत थी मानो कुछ हुआ ही ना हो.यह नानक जी की भक्ति का चमत्कार था.

dharmik kahani

 

एक बार की बात हैं दिन का समय था – नाना जी ईश्वर की भक्ति करते हुए एक पेड़ के नीचे लेट गए. कुछ समय बाद नानक जी गहरी नींद मे सो गए. नानक जी के चेहरे पर धूप पड़ने लगी इतने मे वहाँ एक बड़ा सफ़ेद रंग का सांप आता हैं और अपना फन फैला लेता हैं.

dharmik-kahani

सांप अपने फन को इस तरफ से फैला कर खड़ा हो गया ताकि धूप नानक जी के चेहरे पर ना पड़े. चेहरे को धूप की गरम सेक से बचाने के लिए साँप धूप के अनुसार फन को हिलाता रहता जैसे जैसे धूप सरकती रही सांप भी उस धूप को अपने फन से रोके खड़ा रहा.

dharmik kahani

उसी समय नगर का शासक राय दुलार उस मार्ग से घोड़े पर सवार हो कार अपने कलिंदो सहित वहां से गुजर रहे थे की उनकी नजर सो रहे नानक जी और उस सफ़ेद सांप पर पड़ी जो फन फैलाए उनके मुंह के पास खड़ा था.तो 

यह देख राय दुलार चकित रह गया तब गुरु जी के तेज और सांप की इस हरकत को देखते हुए वह समझ जाता हैं की यह कोई आम बालक नहीं हैं.. तब राय दुलार अपने कालिंदों से कहता हैं की देखो यह कोई आम बालक नहीं हैं बड़ा होकर यह या तो सम्राट बनेगा या फिर कोई महान गुरु.

 

dharmik kahani

नानक जी के बचपन के दोस्त जो की नानक जी से बहुत प्रभावित थे उनका नाम मर्दाना था | नानक जी मर्दाना को भाई मर्दाना कह कर बुलाते थे | भाई मर्दाना हमेशा नानक जी के साथ रहते थे | 

नानक जी के बचपन की ऐसी ही कई चमत्कारिक घटनाओं को देखते हुए गांव के लोग उन्हें दिव्य पुरुष मानने लगे.

संन 1485 मे नानक जी का विवाह बटाला निवासी मूला की कन्या सुलखनी बाई से हुआ.

28 साल की उम्र मे नानक जी को पुत्र की प्राप्ति हुई जिनका नाम श्री चंद रखा गया और 31 साल की उम्र मे दूसरे पुत्र की प्राप्ति हुई जिनका नाम लखमी चंद रखा गया.

 

Advertisement

 

जरूर पढ़े- धार्मिक कहानी -संगीत से मिला ज्ञान -दाने दाने पर लिखा है खाने वाले का नाम -religious stories in hindi –

 

religious-stories-hindi

dharmik kahani

नानक जी के पिता ने नानक जी को खेती और व्यापार मे लगाना चाहा. लेकिन सारी कोशिसे बेकार गई.

एक बार पिता महता कालू ने नानक देव जी को 20 रूपए देते हुए कहा की जाओ सच्चा सौदा कर आओ .

 

नानक जी भाई मर्दाना को साथ लेकर सच्चा सौदा करने निकल गए | वह एक मेले मे पहुंचे वह नानक जी ने बहुत से साधू सेंटो भोखे बैठे हुए देखा | नानक देव जी ने सभी भूखे संतो को लंगर खिलाया और दान पुण्य किया | और फिर वापिस घर लौट आए |

dharmik-kahani

 

इधर पिता जी को जब यह बात पता चली तो पिता महता कालु जी ने गुस्से मे आकर नानक जी को एक थप्पर मारते हुए कहा , मैंने सौदा करने के लिए पैसे दिये थे  यह क्या कर आए ?

नानक जी ने संतुस्टी भरे शब्दों से जवाद दिया – पिता जी यही तो है सच्चा सौदा |dharmik kahani

 

नानक जी ने संतो को जो भोजन कराया यहीं से शुरू हुई थी लंगर प्रथा | नानक जी की बड़ी बहन नानकी जी के पति जय राम जी ने नानक जी को अपने पास सुल्तानपुर बुला लिया | नवम्बर 1504 से अक्तूबर 1507 तक नानक जी सुल्तान पुर मे ही रहे |

 

जय राम जी के कहने पर नानक जी को दौलत खान लोधी के यहाँ काम  पर रख लिया गया | वहाँ से वह अपनी कमाई का अधिकतर हिस्सा साधू और गरीबो मे दे दिया करते थे |

dharmik kahani

नानक देव जी रोज सुबह बेई नदी मे नहाने के लिए जाया करते थे | कहते है एसे ही एक बार जब नानक जी बेइ नदी मे नहाने गए तो तीन दिन उसी नदी मे ही ध्यान मग्न हो गए थे |

 

Advertisement

dharmik-kahani

तीन दिन बाद जब नानक जी नदी से बाहर निकले तो उन्हे देखने के लिए लोगो काका ताता लग गया | नानक देव जी के मुख से जपुजी साहिब की बानी निकल रही है थी | गुरु जी को ईश्वर ज्ञान की प्राप्ति हो चुकी थी \

इस घटना के बाद वह अपने परिवार यानि बीबी बच्चो का  भार  अपने ससुर जी  के हाथ सौंप कर भाई मर्दाना , भाई लहना जी , और राम दास जी के साथ तीर्थ यात्रा पर चले गए |

dharmik kahani

यहीं से नानक जी ने धरती पर अलग जगह पैदल यात्रा घूम कर लोगो को धर्म का पाठ पढ़ाया | लोगो के मन मे बैठे अंधविश्वास को दूर किया |जगह जगह जा कर लोगों को  अपने उपदेश दिये |

dharmik-kahani

 

अपने जीवन मे नानक जी ने कई यात्राएं पूरी की जिनमे भारत ,पाकिस्तान ,बांग्लादेश ,अरब जैसे देश शामिल है | इन यात्राओं को पंजाबी मे उदासीया कहा जाता है |

 

अपनी इन यात्राओं मे नानक देव जी बहुत लोगो से मिले | बहुत से लोगों का हिर्दय परिवर्तन किया अतः उन लोगो को धर्म के मार्ग पर लेकर आए | ठगों को साधू बनाया- एहंकारियों का अहंकार नस्ट किया और बुरे लोगों को इंसानियत का पाठ पढ़ाया |

गुरु जी की वाणी का लोगो पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता था |dharmik kahani

 

जाति गत दुश्मनी को खत्म करने के लिए गुरु जी ने संगत प्रथा शुरू की जहां हर जाति के लोग आते थे और मिल जुल कर कथा सत्संग सुनते थे |

अपनी यात्राओं के दौरान गुरु नानक जी ने हर उस शख्स के अतिथि सत्कार को स्वीकार करते हुए घर जा कर भोजन किया जिसने भी नानक देव जी को सेवा के लिए आमंत्रिक किया |

गुरु जी ने अपनी यात्राओं के दौरान बहुत से साधू संतो के साथ सत्संग किया और मानवता का पाठ पढ़ाया | बड़े  बड़े  महा 

 

महागुरु साधू संत भी गुरु नानक देव जी की बातों से सहमत होते थे |सब लोग आपके संदेश से सहमत थे |

 

नानक जी का संदेश था की – कृत्तय कारों यानी जीवन यापन के लिए कमाओ , ईश्वर का नाम जपो , हमेशा सत्कर्म कारों और दान भक्ति की राह पर चलो कभी किसी का न बुरा करो और न बुरा सोचों | इससे जीवन सुधर जाएगा मानसिक सुख संतुस्टी प्राप्त होगी |

 

Advertisement

कई देश भर की यात्रा करने के दौरान गुरु नानक जी अपने अंतिम समय के दौरान अपने बीबी बच्चो सहित करतारपुर शहर बस गए|dharmik kahani

1521 ईस्वी  से 1539 ईस्वी तक वहीं रहे | अपने अंतिम समय से पहले गुरु जी अपनी गद्दी का भार भाई लहना यानी  गुरु अंगद देव जी को सौंप दिया |

22 सितंबर 1539 मे गुरु नानक देव जी शरीर त्याग परलोक सिधार गए | गुरु नानक देव जी की उपसाना का स्वरूप हिन्दू मुस्लिम दोनों को पसंद था |

गुरु नानक जी के मरणोपरांत सभी धर्म के लोग  गुरु नानक देव जी के शरीर  के अंतिम संस्कार को लेकर मतभेद करने लगे की नानक जी के शरीर का अंतिम संस्कार कौन करेगा |

 

कहते है जब उनके मृत शरीर से कपड़े को हटाया गया तो वहाँ सिर्फ फूल ही फूल नजर आए जो मानों यह संदेश दे रहे थे की सभी को आपस मे बिना किसी जाति भेद भाव के  मिल जुल कर अखंडता और प्रेम के साथ रहना चाहिए |

जिस स्थान पर नानक देव जी ने शरीर त्यागा वह ननकाना साहिब के नाम से जाना जाता है \

nankana-sahib

इसके बाद सभी जानते है की सन 1947 मे भारत पाकिस्तान विभाजन की वजह से नन काना साहिब पाकिस्तान के हिस्से मे चला गया था |जिसके चलते भारत के लोगों के लिए ननकानासाहिब  के दर्शन करना प्रशासीन रूप से बहुत मुश्किल हो गया \dharmik kahani

फिर भी एक साल मे एक बार  भातरीय संगत को ननकाना  साहिब दर्शन के लिए करतारपुर कोरीडोर खोल दिया जाता है |

फिर भी जो लोग ननकाना साहिब के दर्शन  से वंचित रेह गए है उनको हम इस image कए मधाम से दर्शन करा रहे है \ dharmik kahani

 

nankana

 

इन्हे भी जरूर पढे

धार्मिक कहानियों का रोचक सफर

 

रोचक कहानियाँ 

 

moral-stories-in-hindi

Advertisement

 

महाभारत काल की अद्भुत ज्ञान से भरी  एक सच्ची ऐतिहासिक घटना – 🙏 इस video को 👉🎧 लगाकर एक बार जरूर देखे.

 

 

तो दोस्तों ज्ञान से भरी यह video कैसी लगी? ऐसी ही और भी तमाम videos देखने के लिए नीचे दिये गए लाल बटन पर clik करो (दबाओ) 👉

Hindi-moral-stories
Hindi moral stories videos

जरूर पढ़े – गरुनपुराण के अनुसार – मरने के बाद का सफर

religious-stories-in-hindi

Religious-stories-in-hindi

 

 

Advertisement

Leave a Comment