page contents

1 best Buddha moral story hindi | महत्मा बुद्ध और भिखारी

Buddha Short moral story – शिक्षाप्रद कहानी – हमेशा दुःखी रहने वाले ! एक बार जरूर देखे 

नमस्कार दोस्तों – मैं हरजीत मौर्या आज फिर से आपके लिए ज्ञान से भरी कहानी लें कर आया हूं. 

ये कहानी है गौतम बुद्ध और एक दुःखी भिखारी के बीच की Buddha moral story जिससे जीवन का बहुत अच्छा ज्ञान मिलता है. 

 

महात्मा बुद्ध और भिखारी -buddha moral story 

Buddha-moral-story

एक बार महत्मा बुद्ध एक गांव मे अपने शिस्यो सहित घने पेड़ की छाँव के नीचे बैठ थे.

 

आस पास के गांव के बहुत से लोग अपनी अपनी मानसिक परेशानिया लेकर महात्मा बुद्ध के पास आ रहे थे.

 

महत्मा बुद्ध उन सब की मानसिक परेशानियों का समाधान देते.

 

सब लोग ख़ुशी ख़ुशी अपनी समस्याओ का समाधान पा कर वहाँ से लौट रहे थे.

 

आप चाहो तो नीचे play करके इस कहानी की video देख सकते हो 😊🎥👉

 

दोस्तों यदि ये video पसंद आई हो तो ऐसी ही ज्ञान से भरी और भी तमाम video रोज देखने के लिए यहां click करो.. 

..

वहीं से कुछ दूर बैठा एक दुःखी भिखारी खुद की किस्मत को कोसता हुआ बुद्ध के पास जाने वाले लोगो को देख कर ये सोचने लगा….

Moral-story

Advertisement

की अभी कुछ देर पहले तो ये लोग दुःखी मन से मुँह लटकाए,उन महत्मा के पास गए थे.

 

और अब ! इतना खुश हो कर कैसे वापिस लौट रहे है. आखिर माजरा क्या है?
..

जरा मैं भी जाकर देखु की वो महात्मा ऐसा कौन सा खजाना बाट रहा है इन लोगो को ! जो इनके चेहरे ख़ुशी से लाल हो गए.

ज्ञान से भरी Buddha moral story

ज़ब वो दुःखी भिकारी कुछ नजदीक गया तो उसने देखा की ये महात्मा तो लोगो को प्रवचन दे कर लोगो के दुःख का निवारण कर रहे है.

Buddha-moral-story

ये देख कर भिखारी के मन मे भी तीव्र इच्छा हुई की क्यों ना मैं भी अपना दुःख इन महात्मा को बता दू.

मुझे भी अपने दुःख का समाधान अवश्य मिलेगा.

बस फिर क्या था..

समाधान पाने की लालसा लिए भिखारी, महात्मा बुद्ध के सामने पंहुचा और हाथ जोड़ कर, प्रणाम करते हुए बोला..

हे महत्मा बुद्ध !
मैं भी लोगो की मदद करना चाहता हूं. मेरी बहुत इच्छा है की मैं लोगो की मदद करू लेकिन मैं मदद कैसे करू…?

मैं तो बहुत गरीब हूं… ना तो मेरे पास धन है ना ही कोई वस्तु जिससे मैं किसी की मदद कर सकू.

 

मैं चाह कर भी किसी की मदद नहीं कर सकता.
मुझे भगवान ने इतना गरीब क्यों बनाया…?हे महात्मा मुझ पर कुछ कृपा करो.

इतना बोलते हुए भिखारी रोने लगा.

 

Buddha-moral-stories-hindi

महात्मा बुद्ध बोले,
तुम बहुत अज्ञानी हो क्योंकि तुम  अब तक ! इस भ्रम मे जी रहे हो की तुम्हारे पास कुछ नहीं.

जबकि दूसरों को कुछ देने के लिए तुम्हारे पास *बहुत कुछ है.

Advertisement

तुम बिना धन और वस्तु के भी दूसरों की मदद कर सकते हो.

तुम्हारे पास जुबान है. जिससे तुम मीठे शब्द बोल कर. किसी के दुःखी चेहरे पर मुसकान ला सकते हो.

 

इन्ही शब्दों की ताकत से तुम किसी के भी टूटते हौसलों को फिर से मजबूत कर सकते हो.

 

इन्ही शब्दों की ताकत से तुम किसी के भी मन मे सकारात्मक विचारधारा के बीज बो कर उसको गलत रास्ते पर जाने से रोक सकते हो.

 

तुम्हारे पास दो हाथ है, जिससे तुम किसी भी कमजोर और लाचार की मदद कर सकते हो.

तुम्हारे पास दो आँखे है जिससे तुम किसी अंधे को रास्ता दिखा सकते हो.

 

तुम किसी के लिए दुआ कर सकते हो. हो सकता है तुम्हारी दुआ से किसी के बिगड़े काम फिर से बन जाए.

तुम किसी के अच्छी सेहत की कामना कर सकते हो.

लेकिन अज्ञानता वश तुम अब तक इस बात को समझ नहीं पाए.

Buddha moral story

और इस भ्रम मे अब तक जीते रहे की तुम्हारे पास मदद करने के लिए कुछ नहीं.

 

किसी की मदद करने के लिए धन और वस्तु का होना अनिवार्य नहीं है.

बिना धन और वस्तु के भी हम कई प्रकार से लोगो की मदद कर सकते है…

 

महत्मा बुद्ध के ज्ञान भरे इन सुंदर वचनो को सुन भिखारी के चेहरे पर मुसकान आगई. और वो ख़ुशी से झूमता हुआ वहाँ से चला गया.

Advertisement

 

इस Buddha moral story से हमने क्या सीखा?

तो देखा दोस्तों – महत्मा बुद्ध के इन बातो से कितना सुंदर ज्ञान जानने को मिला..

 

आज के समय मे ऐसे ही बहुत से लोग है जो यही सोच सोच कर दुःखी होते रहते है की मेरे पास ये नहीं नहीं वो नहीं..

 

बल्कि जो है उसी मे संतोष करना सीखो और बिना किसी मतलब के लोगो की मदद करो…

इन्ही से आपको परम सुख की प्राप्ति होगी..

 

🤗

तो दोस्तों यह moral story – Buddha moral story आपको कैसी लगी जरूर बताना. 

ऐसी ही और भी moral stories की video और पोस्ट पढ़ने के लिए नीचे देखो. 

 

सही समय का इंतज़ार -गौतम बुद्ध best moral story 

 

Advertisement

Leave a Comment