page contents

short moral stories in hindi बहरा मेंढक 

short moral stories in hindi बहरा मेंढक  – दोस्तों स्वागत है आपका ज्ञान से भरी  कहानियों (stories) की इस रोचक दुनिया मे। दोस्तों जीवन मे कहानियों (stories) का विशेस महत्तव होता है |

क्योकि इन कहानियो (stories) के माध्यम से हमे बहुत कुछ सीखने को मिलता है |

 

 

इन कहानियों (stories) के माध्यम से आपको ज़रूरी ज्ञान हासिल होंगे जो आपको आपकी लाइफ मे बहुत काम आएंगे |

 

 

यहाँ पर बताई गई हर कहानी (story) से आपको एक नई सीख मिलेगी जो आपके जीवन मे बहुत काम आएगी |

 

 

हर कहानी (story) मे कुछ न कुछ संदेश और सीख (moral )छुपी हुई है | तो ऐसी कहानियो (stories) को ज़रूर पढ़े और अपने दोस्तो और परिवारों मे भी ज़रूर शेयर करे |

 

 

 

शिक्षाप्रद कहानी short moral stories in Hindi

बहरा मेंढक 

 

success-story-in-hindi
success

 

एक गाँव के बाहर  एक तालाब था | उस तालाब मे बहुत से मेंढक रहा करते थे | 

तालाब चारो तरफ से  रेतीली मिट्टी से घिरा हुआ था | तालाब मे बहुत से बड़े बड़े कमल के फूल खिले हुए थे |

 

 

Advertisement

Video देखो 🎥👉🎧

 

ज्ञान से भरी ऐसी ही और भी 🎥videos देखने के लिए यहां click करो 

 

सभी मेंढक उस कमल के पत्तों  पर उछल कूद किया करते , खूब मस्ती किया करते  ,कोई मेंढक उस पानी मे गोते लगता तो कोई एक पत्ते से दूसरे  पत्ते पर उछल कूद करता तो कोई पत्तों के नीचे छुप जाता तो दूसरे मेंढक उसको खोजने लगते |

 

उन सभी मेंढको मे एक बहरा मेंढक भी था जिसे दूसरे मेंढको की कोई आवाज ही नहीं सुनाई देती थी |

 

बहरा मेंढक जब भी दूसरे मेंढको को बोलता हुआ देखता तो वह सोचने लग जाता की यह मेंढक अपने होठ क्यो बार बार खोलते और बंद करते रहते है | 

बिचारा बहरा मेंढक तालाब के पानी मे अपनी ही धुन मे मस्ती किया करता |

आप पढ़ रहे है -10 moral stories in hindi | रोचक कहानियाँ

 

उन सभी मेंढको मे एक बात यह थी की – जब भी कोई मेंढक उस तालाब मे कुछ नया करने की कोसिस करता तो बाकी के मेंढक उसको देखने लगते और जब वो मेंढक वो करने मे सफल हो जाता तो बाकी के मेंढक भी उसी मेंढक की तरह वो करतब करने लगते |

 

लेकिन जब कभी कोई मेंढक अपने नए करतब मे कामयाब न हो पता तो बाकी के मेंढक को बोल देता की यह बहुत मुश्किल है भाई,  नहीं होगा |

 

मेंढक की यही बात बाकी  के मेंढको के दिमाग मे घुस जाती है इस वजह से बाकी के मेंढक उस करतब को करने का प्रयास ही नहीं करते |

 

 

Advertisement

और जो  मेंढक  थोड़ा बहुत प्रयास करता भी तो वो भी कुछ देर प्रयास करने के बाद हार  मान जाता क्योकि प्रयास कर रहे उन मेंढको को बार बार उस मेंढक की बात याद आजाती, की वो मेंढक सही बोल रहा था  की यह नहीं होगा | यह काम सच्च मे नामुमकिन  है. 

 

 

 

एक बार तेज बारिश शुरू हुई , सभी मेंढक उस बारिश मे खूब मस्ती करने लगे सभी कमल के पत्तों के ऊपर आकार बैठ जाते और बारिश  की तेज बूंदों का आनंद लेते |

 

 

कुछ देर बाद बारिश बंद हो जाती है |  वही तालाब के एक दम किनारे पर एक पेड़ था  |

 

सभी मेंढक मस्ती करने के लिए उस पेड़ के पास पहुँच गए |

 

 

  मेंढको के एक झुंड से एक मेंढक निकला और उस पेड़ पर चढना शुरू  कर दिया | हर बार की तरह बाकी के मेंढक उस प्रयास कर रहे मेंढक को टक टकी लगाए देख रहे थे |

 

 

दो तीन प्रयास के बाद वो मेंढक हार मान गया | इस  बार बाकी के मेंढको ने भी प्रयास कर के देखा | 

 

जो थक जाता वो बाकी के प्रयास कर रहे मेंढको को बार बार बोलता मत करो , कोई फाइदा नहीं , मत करो |

 

 

Advertisement

मेंढको की यह बाते उन प्रयास कर रहे मेंढको के कान मे बार बार जा रही थी | नतीजा यह हुआ की सभी मेंढको ने हार मान ली |

 

अब इतने मे वो बहरा मेंढक उन सब को पेड़ पर चढ़ता देख कर तुरंत वहाँ  पहुंचा |

 

 

बहरा मेंढक भी पेड़ पर  चढना शुरू कर दिया | बहरा मेंढक को पेड़ पर बार बार प्रयास करता देख बाकी मेंढक उसे बोलने लगे की

 

“मत कर कोई फाइदा नहीं ” हम सब  इतना प्रयास करके नहीं चढ़ पाए तो अब तुम किओ पागल हो रहे हो | हर मेंढक उस काने मेंढक को यही बात बार बार बोलते जा रहे थे |

 

इन सब मेंढको की इन बातों का उस बहरा मेंढक पर कोई असर नहीं हो रहा था क्यो की वो तो बहरा  था उसे तो किसी की आवाज सुनाई ही नहीं दे रही थी | 

 

 

 

इसी वजह से उसके मन मे नकारात्मक विचार आए ही नही की वो नहीं कर पाएगा| उसे खुद पर विश्वास था की वो जरूर चढ़ पाएगा |

 

 

इस वजह से वो बहरा मेंढक बार बार उस पेड़ पर चढ़ने का प्रयास करता और फिर फिसल कर नीचे आजाता | कभी कभी तो  बहरा मेंढक काफी ऊपर तक चढ़ जाता लेकिन फिर फिसल जाता | 

 

इधर बहरा मेंढक के इस अथक प्रयास को देखते हुए बाकी के मेंढक उस पर हसने लगे और मज़ाक उड़ाने लगे | सभी मेंढक धीरे धीरे करके वहाँ से चले गए और अपनी मस्ती करने लगे |

 

Advertisement

इधर वो बहरा मेंढक हार नहीं मान रहा था क्यो की उस को खुद पर पूरा यकीन था की वो इस पेड़ पर चढ़ सकता है | 

 

 

बहरा मेंढक प्रयास करते हुए बार बार सोचता की अगर इतना ऊपर तक चढ़ पा रहा हूँ तो एक न एक बार मैं वहाँ तक भी पहुच ही जाऊंगा बस थोड़ी कोशिश और कर लू | 

 

 बस अब उस बहरा मेंढक की यही बाते उसको पेड़ पर चढने के लिए प्रेरित करती रहती| 

 

कुछ देर बाद बहरा मेंढक सचमुच मे अपने अथक प्रयास , से उस पेड़ पर आखिर कार चढ़  ही जाता है | शिखर पर पहुँचते ही बहरा मेंढक की खुशी का मानो ठिकाना ही नहीं रहता |

 

बहरा मेंढक अपनी बहे फैलता हुआ ज़ोर से चिल्लाता है – याह मैंने कर दिखाया |

 

 

यह बोलता हुआ बहरा मेंढक जब नीचे देखता है तो सभी मेंढक  उसकी तरफ ही  आखे फाड़ फाड़ कर देख रहे होता है | 

 

इधर बहरा मेंढक को  पेड़  पर चढ़ा देख  सभी मेंढको की आखे फटी रह गई और मुह खुला रह गया | सभी मेंढको को मानो साप सूंघ हो |

 

दृश्य सच मे रोंगटे खड़े कर देने वाला था |

सभी मेंढक बस एक टक्क उस बहरा मेंढक की ओर ही देख रहे थे| 

 

किसी को यकीन नहीं हो रहा था की यह इसने कर दिखाया | अब सभी मेंढक बोलने लगे यह कैसे हुआ ?

Advertisement

 

 

आखिर कैसे इसने असंभव कम को संभव कर दिखाया | हम लोग तो चढ़ ही नहीं पाए| 

 

फिर सब मेंढको को समझ आता है की शायद हमने ठीक से प्रयास ही नहीं किया | कुछ देर प्रयास करने के बाद ही हार मान ली | 

 

बस फिर क्या था इतना बोलते हुए सभी मेंढक उस पेड़  की  तरफ दैड़ पड़े और पेड़ पर चढ़ने का प्रयास फिर से शुरू कर दिया , देखते ही देखते सभी मेंढक अपने अथक प्रयास से उस पेड़ पर चढ़ गए |

 

क्यो की इस बार उन मेंढको कोई भी यह कहने वाला नहीं था की यह नामुमकिन है ” नहीं कर पाओगे ” 

 

 

 

चलिये अब जानते हैं इस कहानी से हमे  क्या शिक्षा मिलती है –

शिक्षा – moral of hindi short stories with moral – बहरा  मेंढक

तो देखा दोस्तो कैसे एक बहरा मेंढक अपने अथक प्रयास , विश्वास, और बुलंद हौसलों  की बदौलत पेड़ पर चढ़ ही गया |

 

 

  तो दोस्तो इस कहानी से हमे यह सीख मिलती है की असंभव कुछ भी नहीं (nothing is impossible)  अपनी अथक मेहनत , दृढ़ विश्वास और बार बार कोशिश से हर असंभव काम को संभव किया  सकता है |

 

अपनी अथक मेहनत , दृढ़ विश्वास और बार बार कोशिश से एक दिन सफलता आपके कदम चूमती है |

Advertisement

 

इस कहानी से  दूसरी सीख यह मिलती है की  जब भी आप किसी कामयाबी को पाने के लिए बार बार कोशिश कर रहे हो  तब कभी दूसरों की नकारात्मक बातों पर ध्यान न दो  पूरे विश्वास और अपने अथक प्रयास से अपनी मंजिल को पाने मे जुट जाओ एक दिन सफलता आपके कदम चूमेगी| 

 

 

यदि मेंढक बहरा न होता और वो   बाकी मेंढको की बाते अगर सुनता तो  कभी भी सफल न हो  पाता| इस तरह आप भी उन लोगो की बातों को अनसुना कर दो जो बोलते है की तुमसे नहीं होगा कोई फाइदा नहीं  | 

 

लोगो की नकारात्मक बातों पर बिलकुल ध्यान न दें आप अपने काम मे पूरी ईमानदारी और विश्वास के साथ लगे रहे एक दिन कामयाबी जरूर मिलेगी |

 

जीवन की अनमोल सच्चाई को दर्शाती हुई तीन शिक्षाप्रद कहानियाँ  जरूर पढ़े-3 moral stories in hindi

 

success-stories-in-hindi

 

दोस्तों हमारी  हमेशा से यही कोशिश रहती है की हम  इस blog पर आपके लिए ज्ञान और शिक्षा  से भरी ऐसी ही तमाम कहानियाँ लाते रहे जिससे आपका ज्ञान बढ़ सके , बौद्धिक विकास हो सके ,जीवन मे सही फैसले ले सके , आप जीवन मे आगे बढ़ सके , मन मे सकरत्म्क विचारो का जन्म हो और  आपके सुंदर चरित्र का निर्माण हो ताकि आप आगे चल केआर सुंदर परिवार और समाज का निर्माण कर सके |

हम चाहते है की यह कहानियाँ जादा से जादा लोगो तक पहुंचे ताकी वह भी इसका पूरा लाभ उठा सके इसलिए आप इन कहानियों को social media की मदद से अपने सभी दोस्तों मे अवश्य शेयर करे | आपका ये छोटा सा प्रयास कई लोगो की जिंदगी भी बदल सकता है |

 

Advertisement