page contents

7 मटका धन moral story

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका आज की इस 7 मटका धन moral story मे.  आज की इस moral story से आपको बहुत जरुरी ज्ञान मिलेगा.

 

7 मटका धन moral story

एक नाई जंगल में होकर जा रहा था अचानक उसे आवाज सुनाई दी “सात घड़ा धन लोगे?” उसने चारों तरफ देखा किन्तु कुछ भी दिखाई नहीं दिया।

7-मटका-धन-moral-story

यही आवाज़ फिर से आई और वहीं बात दोहराई गई . अब नई को लालच हो गया और बोल दिया की हाँ, मुझे दे दो. लेकिन कैसे दोगे कहाँ दोगे.? 

 

तुरन्त आवाज आई “सातों घड़ा धन तुम्हारे घर पहुँच जायेगा जाकर सम्हाल लो”। 

 

नाई तुरंत भागता हुआ घर आया. घर आकर देखा तो सात घड़े मे  धन  रखा था। 

 

लेकिन उनमें 6 घड़े तो भरे थे किन्तु सातवाँ थोड़ा खाली था। 

 

नई का लोभ, लालच सातवे आसमान पर था. 

 

नाई ने सोचा सातवाँ घड़ा भरने पर मैं सात घड़ा धन का मालिक बन जाऊँगा।

 

यह सोचकर उसने घर का सारा धन जेवर उसमें डाल दिया किन्तु वह भरा नहीं।

 

सिर्फ यही नहीं,  वह दिन रात मेहनत मजदूरी करने लगा, घर का खर्चा कम करके धन बचाता और उसमें भरता किन्तु घड़ा नहीं भरा। 

 

वह राजा की नौकरी करता था तो राजा से कहा “महाराज मेरी तनख्वाह बढ़ाओ खर्च नहीं चलता।”

 

 तनख्वाह दूनी कर दी गई फिर भी नाई कंगाल की तरह रहता। भीख माँगकर घर का काम चलाने लगा और धन कमाकर उस घड़े में भरने लगा। 

 

एक दिन राजा ने उसे देखकर पूछा “क्यों भाई ये क्या माजरा है?  

तू जब कम तनख्वाह पाता था तो मजे में रहता था अब तो तेरी तनख्वाह भी दूनी हो गई, और भी आमदनी होती है फिर भी इस तरह दरिद्री क्यों? क्या तुझे सात घड़ा धन तो नहीं मिला।”

 

नाई ने आश्चर्य से राजा की बात सुनकर उनको सारा हाल कहा। तब राजा ने कहा अरे ये क्या किया,  “वह यक्ष का धन है।

 

 उसने एक रात मुझसे भी कहा था किन्तु मैंने इन्कार कर दिया। 

 

अब तू उसे लौटा दे।” नाई उसी स्थान पर गया और कहा “अपना सात घड़ा धन ले जाओ।” तो घर से सातों घड़ा धन गायब। नाई का जो कुछ कमाया हुआ था वह भी चला गया।

 

नाई को अपनी लालच पर पछतावा हुआ और वो समझ गया कि पराये धन के प्रति लोभ, तृष्णा पैदा करना, अपनी हानि करना है।

7 मटका धन moral story से सीख 

इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि, कभी पराए धन्यवाद को अपने कमाए हुए निजी धन से ना मिलाए, 

👉कभी भी पराए धन पर अपना अधिकार ना जमाए. अधिक लालच ना करें, मेहनत से जितना कमाया है उसी से संतोष करें. 

 भूलकर भी पराये धन में तृष्णा, लोभ, पैदा नहीं करना चाहिए। अपने श्रम से चाहे रूखा−सूखा मिले या घी-माखन, जो भी मिले उसे खाकर प्रसन्न रहते हुए भगवान का स्मरण करते रहना चाहिए..!!

तो दोस्तों उम्मीद करता हूं 7 मटका धन moral story आपको बहुत पसंद आई होगी. 

 

दोस्तों हमारी  हमेशा से यही कोशिश रहती है की हम  इस blog पर आपके लिए ज्ञान और शिक्षा  से भरी ऐसी ही तमाम कहानियाँ लाते रहे जिससे आपका ज्ञान बढ़ सके , बौद्धिक विकास हो सके ,जीवन मे सही फैसले ले सके , आप जीवन मे आगे बढ़ सके , मन मे सकरत्म्क विचारो का जन्म हो और  आपके सुंदर चरित्र का निर्माण हो ताकि आप आगे चल केआर सुंदर परिवार और समाज का निर्माण कर सके |

हम चाहते है की यह कहानियाँ जादा से जादा लोगो तक पहुंचे ताकी वह भी इसका पूरा लाभ उठा सके इसलिए आप इन कहानियों को social media की मदद से अपने सभी दोस्तों मे अवश्य शेयर करे | आपका ये छोटा सा प्रयास कई लोगो की जिंदगी भी बदल सकता है |

 

जरूर पढ़े –

जीवन बदल देने वाली ज्ञान से भरी अद्भुत कहानियाँ जरुए पढे 👇

 

बच्चो के लिए बेहद ज्ञान सी भारी कहानियां जरूर पढे 👇

 

👇दुनियां की सबसे प्रेरणादायक कहानियाँ जरूर पढे 👇

रोचक कहानियाँ 

 

 

भगवान बुद्ध की ज्ञान से भरी शिक्षाप्रद कहानियाँ 

 

महात्मा बुद्ध और भिखारी की अद्भुत कहानी 

Buddha-moral-story

जरूर पढ़े – दान का फल – ज्ञान से भरे धार्मिक कहानियों का रोचक सफर-

religious-stories-in-hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *