page contents

success का मूल मंत्र | जिंदगी के 24 घंटे

कामयाबी (success) एक दिन मे हासिल नहीं होती. हर बड़ी कामयाबी (success) के पीछे छिपी होती हैं एक संघर्ष की दास्तां|

 

 हर इंसान की जिंदगी मे 24 घंटे ही होते हैं लेकिन हर इंसान कामयाबी (success) का इतिहास नहीं रच पाता, कामयाबी (success) का इतिहास वही इंसान रच पाता हैं जो अपनी लाइफ के हर एक सेकेंड की value को समझते हुए 24 घंटो का उपयोग इस प्रकार करता हैं की एक दिन समय उसके कदमो मे कामयाबी (success) की जन्नत बिछा देता हैं.

success का मूल मंत्र | जिंदगी के 24 घंटे

success

यह हर कोई जानता है की समय का महत्व सफलता (success) के लिए  कितना अधिक है लेकिन हर कोई समय का सदुपयोग नहीं कर पाता|

जो इंसान समय के प्रति ईमानदार नहीं तो समय भी ऐसे लोगो की जिंदगी को एक दिन मज़ाक की कसौटी पर लाकर खड़ा कर देता है |

बिल गेट्स हो या अम्बानी या  वो हर कामयाब (success) इंसान जो अपने जीवन के लक्ष्य को बिना हार माने अपने अथक प्रयास से प्राप्त कर पाया हैं उसके जीवन मे भी 24 घंटे ही थे और आज भी उतने ही हैं.

 

 

उन लोगो की भी दो ही आँखे हैं जैसी आपकी हैं उन लोगो के पास भी काम   करने के लिए दो हाथ और चलने के लिए दो टांग तथा सुनने कर लिए वैसे ही दो कान हैं जैसे आपके हैं. उनके पास भी एक ही दिमाग़ हैं जो आपके पास भी हैं. तो फिर फर्क कहाँ पर हैं.

यदि वो लोग कर सकते हैं तो आप क्यों नहीं. क्या कभी इस पर  विचार किया?

 

जी हाँ एक फर्क  हैं ! और वो है मानसिकता का फर्क | एक सोच का फर्क | तो चलिए आपको दो ऐसी ही मानसिकता वाले इन्सानो की एक छोटी सी सफलता (success) की कहानी सुनाता हूँ |

 

जिसके जरिये आप समझ जाएंगे की ज़िंदगी के 24 घंटो का सही उपयोग करना लक्ष्य प्राप्ति तथा सफलता (success) के लिए किस प्रकार से एक मील का पत्थर साबित होती है | तो चलिए जानते है |

 

success Motivation से भर देने वाली ये अद्भुत speech जरूर पढ़े 👇

 

ये कहानी है मुंबई के दो  ऐसे लड़को की जो एक सामान्य मिडल क्लास family से बिलोंग करते है | एक का नाम था  विशाल त्रिपाठी और दूसरे का नाम था मनोज गिलानी |

 

विशाल के दो छोटे भाई थे ,वहीं दूसरी तरफ मनोज की दो छोटी बहने थी |

Advertisement

 

दोनों के पिता जी नारियल पानी बेच कर और फलों के जूस वागेरा बेच कर घर का खर्च चलाते थे |

success का मूल मंत्र | जिंदगी के 24 घंटे

विशाल मनोज से 8 महीने बड़ा था | दोनों ही फीजीकली  एक जैसे ही थे दिमाग भी उतना ही था  |बस फर्क था तो समय के सदुपयोग को  लेकर उन दोनों की मानसिकता /सोच का |

 

इन दोनों की मुलाक़ात भी कॉलेज मे ही हुई एक दूसरे को जानते समझते हुए दोनों मे दोस्ती हो गई |

 

पढ़ाई की दुनिया मे जब दोनों collage के स्तर तक पहुंचे तो वहाँ पर होने वाले  मोटीवेशनल सेमिनार से दोनों की मानसिकता पर गहरा प्रभाव पड़ा जिसके चलते दोनों ने  ज़िंदगी मे कुछ करने की ठानी |

 

समय बीतता गया और कॉलेज लाइफ खत्म  हुई लेकिन अभी भी दोनों ने करियर का कोई लक्ष्य निर्धारित नहीं किया था क्यो की परिवार मे बड़ा होने के नाते कॉलेज के बाद अब घर की जिम्मेदारियाँ भी कंधो पर आने लगी थी जिसके चलते दोनों का दिमाग प्राइवेट/सरकारी जॉब जैसे घटिया बातों पर सीमित रहने लगा |

success
friend

लेकिन सच तो यह हैं की मन दोनों का ही ज़िंदगी मे कुछ अपना करने का था |अपनी ही एक अलग पहचान बनने का |

 

लेकिन उस समय पिता जी का काम ठीक से चल नहीं रहा था जिसके चलते घर के हालत कुछ ऐसे बन चुके थे की उनको मजबूरन कोई छोटी सी प्राइवेट जॉब करनी पड़ी|

 

जॉब करते हुए हुए दोनों के मन मे बार बार आता था की हमने मेकेनिकल की पढ़ाई की है तो किसी मोटर गेरेज से काम सीख कर क्यों न अपना खुद का काम शुरू किया जाए |success का मूल मंत्र | जिंदगी के 24 घंटे

 

कुछ समय बाद दोनों ने जॉब छोड़ दी और एक बहुत बड़े मोटर गैरेज मे काम सीखने लगे | वो एक ऐसा गैरेज था जहां 24 घंटे काम चलता रहता था वहाँ पर काम करने के पैसे भी दिये जाते थे जितना काम करोगे उतने ही पैसे | लेकिन दोनों अभी काम सीख रहे थे |

 

दोनों मे काम को सीखने की प्रबल इच्छा थी | लेकिन दोनों मे आज भी समय के सदुपयोग को लेकर सोच अलग अलग थी |

 

Advertisement

विशाल समय की कीमत को समझता हुआ टाइम मेनेजमेंट के अनुसार काम करता था लेकिन मनोज टाइम के प्रति बहुत लापरवाह था जब जिसके चलते जब मन किया गैरेज चला गया या फिर नहीं जाता था फालतू के कामो मे उलझा रहता था |

 

इस तरह मनोज अपने जीवन के 24 घंटे ज्यादार सोने मे या इधर उधर मे निकाल देता था गैरेज बहुत कम ही जाता था |

काम तो पूरी ईमानदारी से करता था लेकिन वो इस बारे सोचता ही नहीं था की किस काम को अधिक समय देना चाहिए | लक्ष्य के प्रति सिरियस तो था लेकिन समय के प्रति बहुत लापरवाह|

 

विशाल को भी इधर एहसास हुआ की मैं गैरेज के लिए टाइम नहीं निकाल पा रहा हु जबकि विशाल की सोच टाइम के प्रति बहुत सजग थी |

जिसके चलते विशाल ने  सबसे पहले एक डायरी ली और अपने लक्ष्य को ध्यान मे रखते हुए अपनी लाइफ के रोज के उन 24 घंटो के बारे सोचने लगा की -अब तक मैं इन 24 घंटों मे क्या क्या करता था

उन सब को उसने लिख लिया  फिर इसके बाद अब वो  उन 24 घंटों मे किए जाने वाली सभी क्रियाओं की लिस्ट को 10 मिंट तक ध्यान से देखता रहा

 

इस 10 मिंट मे वो विचार कर रहा था की इन सब मे ऐसी  कौन सी क्रियाए है जो फालतू की है जिनका मुझे कोई लाभ नहीं है तो उनको मैं लिस्ट से निकाल देता हूँ, 

और इसके बाद जो बचेगा उनमे से मैं किन क्रियाओं को कितना समय दू ताकि मैं अधिक से अधिक उन क्रियाओं को समय दे पाऊ जिसके जरिये मुझे अपना लक्ष्य हासिल करना है |

 

फिर बहुत सोच विचार कर ऐसी लिस्ट बनाई की जिसमे सब कुछ था |

कब से कब तक सोना है कौन कौन से रोज मर्रा के जरूरी  काम कितने समय मे खत्म करना है लक्ष्य प्राप्ति की क्रियाओं पर कितना समय लगाना है

इसी के साथ अपनी सेहत को ध्यान मे रखते हुए समय से खाना और कसरत जैसी क्रियाए भी शामिल की |

 

तो इस तरह जब 24 घंटे मे किए जाने वाले क्रियाओं की लिस्ट तैयार की और प्रण /किया यानी संकल्प लिया की इस बनाई हुई लिस्ट का पूरी ईमानदारी से पालन करूंगा |

 

बस फिर क्या था वो इंसान लग गया अपने काम पर| सब काम सीखने के बाद अब विशाल ने अपना  खुद का गैरेज खोला लिया | 

 

Advertisement

उसे कई चुनौतियों का सामना भी  करना पड़ा असफलता  भी मिली लेकिन फिर भी वो पीछे नहीं हटा अपने हर असफलता के अपनी गलती को सुधरते हुए ,अपने संकल्प तथा लक्ष्य  को याद करते हुए फिर से अपने काम मे जुट जाता |

 

और देखते ही देखते सफलता (success) उसके नजदीक आती जा रही थी वो लक्ष्य की तरफ तेजी से बढ़ रहा था |

इधर मनोज गैरेज मे अधिक समय न दे पाने की वजह से अभी तक ठीक से काम नहीं सीख पाया था |

 

तो दोस्तो यही थी जीवन के 24 घंटो सदुपयोग करने की कहानी |

हमारी हमेशा से कोशिश रहती है की हम आप लोगों के लिए  motivation & inspiration से भरी speech – motivational stories और प्रेरणादायक विचार लाते रहें ताकी इन्हे पढ़ने के बाद आपके अंदर किसी भी मुकाम को हासिल करने का जुनून जाग उठे | ताकी इन्हे पढ़ने के बाद आप अपनी ताकत को पहचान सको और जीवन की मुश्किलों से लड़ कर आगे बढ़ सको तथा सफलता हासिल कर सको | 

 

जुनून से भरी इस motivational video को एक बार जरूर देखें  

 

 

सीने मे कामयाबी ( success) की आग लगा देने वाली  मन मे कामयाबी (success) का जुनून भर देने वाली खूब सारी  powerful motivational videos को देखने के लिए  👉यहाँ click करें 

 

पढ़ाई मे मन नहीं लगता. तो एक बार ये पढ़ो पढ़ाई के दीवाने हो जाओगे 

Exam-study

 

 

इन्हे भी जरूर पढ़े

 

Advertisement

 

Motivation से भर देने वाली ये अद्भुत speech जरूर पढ़े 👇

 

 

ज्ञान से भरी किस्से कहानियों का रोचक सफर | यहाँ मिलेंगे आपको तेनाली रामा और बीरबल की चतुराई से भरे किस्से ,  विक्रम बेताल की कहनियों का रोचक सफर , भगवान बुद्ध की कहानियाँ , success and motivational stories और ज्ञान से भरी धार्मिक कहानियाँ 

 

moral-stories-in-hindi

 

 

 

सीने मे कामयाबी की आग लगा देने वाले

motivational कहानियों का रोचक सफर success stories in hindi

 

 

जरूर पढ़े- maikal felps की रोंगटे खड़े कर देने वाली Inspirational story

Inspirational-story

 

 

यहाँ click करे- जानिए ज्ञान की ऐसी बाते जो आपको जीवन मे बहुत कम आएंगी 

यहाँ click करे -2 रुपये से 500 करोड़ तक -कामयाबी का एक ऐसा सफर – एक ऐसी मिसाल जिसको पढ़ने के बाद किसी के भी सीने मे  अपने मुकाम को हासिल करने की आग जाग उठे जो सीने मे कामयाबी की आग लगा दे-kalpana saroj success story in hindi

Advertisement

kalpana-saroj

 

 यहाँ click करे- कोनुसूके   एक ऐसा इंसान जिसने एक विश्वास के दम पर खड़ी कर दी अरभो की संपत्ति| konosuke-real life inspirational stories in hindi| जानिए की यह सब कैसे संभव हो पाया – कैसे कर पाए ? click करे 

 

inspirational-stories-in-hindi

 

जरूर पढ़े –Elon Musk success story hindi | सदी का महान क्रांतिकारी आदमी

elon-musk-success-story
succes inspiration elon musk

 

जरूर पढ़े – walmart success story एक newspaper बेचने वाला

success-story-in-hindi
walmart

जरूर पढ़े – success story जिद्द और कामयाबी की अद्भुत दास्तां

 

success-story-in-hindi
success

जरूर पढ़े- Success की motivational story लिज्जत पापड़ की शुरुआत

lijjat-papad-success-story in hindi

Advertisement

Leave a Comment