page contents
hindi-story

guru nanak hindi story क्यों रोकना पड़ा गुरु नानक जी को पहाड़

guru nanak hindi story गुरु नानक देव जी की शिक्षाप्रद कहानी – दोस्तों स्वागत हैं आपका ज्ञान और शिक्षा  से भरी गुरु नानक देव जी की religious story मे | gurudwara panja sahib ka itihas | history of panja sahib gurudwara

 

गुरु नानक देव जी की इन कहानियों मे  हमे  सदैव सदकर्म एवं सत्कर्म करने की प्रेरणा मिलती है |गुरुनानक देव जी के जीवन कर्मो को जान कर हमे अद्भुत ज्ञान की प्राप्ति होती है|

तो हम religious story गुरु नानक देव जी की महिमा का बखान करते हुए उनके ज्ञान को एक सच्ची कहानी के रूप मे आप तक लेकर आए है जिसे पढ़ने के बाद आपके जीवन मे सकारात्मक प्रभाव होगा |

guru-nanak-hindi-story
guru nanak story

गुरु नानक जी सिक्ख धर्म के सबसे पहले गुरु है. गुरु नानक जी अपने जीवन मे कई देशों की यात्राएं कर लोगो को धर्म और ज्ञान  का पाठ पढ़ाया|

गुरद्वारे न सिर्फ भारत मे हैं बल्कि देश विदेशों मे भी हैं. भारत मे हर बड़े गुरद्वारे के पीछे एक ऐतिहासिक महत्त्व और कहानी (सच्ची घटना) जुड़ी हुई हैं.

 

तो आज ऐसे ही हम एक ऐतिहासिक गुरद्वारे, श्री पंजा साहिब के बारे मे बताने जा रहे है की कैसे पड़ा इसका यह नाम चलिए जानते हैं.hindi story

पाकिस्तान की एक जगह जो की रावलपिंडी से कुछ ही दूरी पर है -उसका नाम है श्री पंजा साहिब

guru nanak hindi story | shri panja sahib

 

एक बार गुरु जी अपनी यात्रा के दौरान रावलपिंडी के हसन अब्दाल नमक स्थान पर पहुंचे |

वहाँ गुरु नानक जी के मुख तेज को देख गांव के लोग उनकी तरफ आकर्षित होने लगे. गुरु जी ने गांव के लोगो को आपने उपदेश देते हुए इंसानियत का पाठ पढ़ाया.

वहीं एक पहाड़ी थी जिस पर बलि गंधार नाम का एक आदमी रहता था जो की बहुत ही लालची और अभिमानी था | उसके घर के पास एक छोटा सा झरना बहता था  जिस वजह से वहाँ एक पानी का छोटा सा चस्मा यानी तालाब बना गया था |

hindi-story

वही तालाब ही पूरे गाँव के लिए पानी की एक मात्र उम्मीद था जिसका फाइदा उठा कर बलि गंधार गांव के लोगो से पानी के बदले मे पैसे लेता था यानी शुल्क|

hindi story

गुरु जी के उपदेशों को सुन गांव के लोग बहुत प्रभावित हुए| गुरु जी के व्यक्तितव , वाणी , विचार ,और उपदेशों की  दूर दूर तक चर्चा होने लगी जिसे देखने और सुनने के लिए लोग वहाँ इकट्ठे होने लगे | जो भी गुरु जी को देखता था वह मंत्र मुग्ध हो जाता था |

 

अब रोज गुरु जी अपनी मीठी वाणी और विचारों से लोगो को ज्ञान का रसपान करवाते | हर धर्म के लोग चाहे वो हिन्दू हो या मुस्लिम सब गुरु जी को बड़े ध्यान से सुनते | 

 

बहुत से लोग गुरु जी के शिष्य बन गए. जिनमे से कई अलग अलग धर्म के लोग थे मुस्लिम भी थे.

guru nanak hindi story

 

चूं की बलि गंधार भी एक मुस्लिम था और जब बलि गंधार को यह पता चला की गांव के लोग गुरु नानक  जी के भक्त बन गए हैं. तो वह अंदर ही अंदर से बहुत क्रोधित हुआ.

गुरु नानक जी के  प्रति लोगो का समर्पण और नानक जी का नाम दूर दूर तक फैलता देख बलि गंधारी को नानक जी से ईर्षा होने लगी.

इस ईर्षा के चलते  बलि गंधारी ने गांव के लोगो को पानी देने लिए उनसे अधिक कर वसूलना शुरू कर दिया.

बलि गंधारी के पास पानी का एक छोटा सा चश्मा था. सिर्फ वही उस गांव मे लोगो के लिए पानी का एक मात्र जरिया था. दूर दूर तक और कही भी पानी नहीं था.

hindi story

बलि गंधारी गांव के लोगो को पानी देने के बदले मे उनसे छोटी सी धन राशि लिया करता था.

इस तरह अब जो कोई भी पानी लेने के लिए पहाड़ी पर बलि गंधारी के पास जाता वह उससे अब दोगुना कर वसूलता.

जिसके चलते लोगो को अब बहुत परेशानी होने लगी थी लोगो के पास अब इतना धन नहीं था की उसको इतना कर दे सके.

लोगो अब प्यास से तड़पने लगे थे. लोगो के बार बार मिन्नत करने पर भी उसने लोगो को पानी नहीं दिया.

लोग अपनी समस्या को लें कर नानक जी के पास गए. गांव के लोगो ने सारी बात गुरु नानक को बताई.

नानक जी ने आपने शिष्य भाई मर्दाना को पानी लेने के लिए पहाड़ी के ऊपर भेजा. बलि गंधार ने भाई मर्दाना को पानी भरने से इंकार कर दिया.

hindi story

मरदाना खाली हाथ वापिस आगए. गुरु जी ने भाई मर्दाना को फिर से बलि गंधारी के पास पानी लाने को कहा और बोले की इस बार ईश्वर के नाम पर पानी मांगना.

भाई मर्दाना फिर से पहाड़ी पर गए और इस बार ईश्वर का नाम लेकर पानी माँगा. तो बलि गंधारी बोला. जाओ आपने नानक से पानी मांगो. यहाँ तुम्हे कुछ नहीं मिलेगा.

मरदाना जी निराश हो कर फिर से खाली हाथ वापिस लौट आए.

गांव के लोगो को प्यास से मरता देख नानक जी ने अपनी एक लाठी जोर से जमीन पर मारी उसी समय वहां ठन्डे पानी का जल निकलने लगा. इस प्रकार नानक जी ने अपनी दिव्य शक्ति से लोगो की प्यास बुझाई.

guru nanak hindi story

इस घटना को देख लोग नानक जी को दिव्य पुरुष मानने लगे. बहुत से मुसलमान उनको अपना ईश्वर मानने लगे.

नानक जी की इस दिव्या घटना के बाद बलि गंधार ने गुरु नानक जी को जान से मारने की एक साजिश रची.

एक दिन गुरु जी उसी पहाड़ी के नीचे बैठ कर गांव के लोगो को धार्मिक उपदेश दे रहे थे.

इस मौक़े का फायदा उठा कर बलि गंधार ने एक बड़ी सी चट्टान को किसी तरह ऊपर पहाड़ी से नीचे गुरु नानक जी की ओर धकेल दिया. उस बड़े से पत्थर के नीचे आने की आवाज़ इतनी भयानक थी जिसे देख और सुन वहां बैठे गांव के लोगो मे अफरा तफरी मच गई.

वो बड़ा पत्थर गुरु जी की आता देख गांव के लोगो ने गुरु जी को वहां से हट जाने के लिए कहा.

 

लेकिन गुरु जी ने पीछे मुड़ कर भी नहीं देखा. इधर पत्थर तेजी से गुरु जी की तरफ बढ़ता जा रहा था. अब गुरु जी ने अपना एक हाथ ऊपर की तरफ उठाया और उस बड़े से पत्थर को हवा मे ही रोक दिया. दिव्य शक्ति का दबाव इतना अधिक था की उस बड़े से पत्थर पर गुरु जी के पंजे अंदर तक छप गए.

गुरु जी की इस शक्ति को देख बलि गंधार का घमंड चूर चूर हो गया. बलि गंधार गुरु जी के चरणों मे अपने गुनाहों की मांफी मांगता हुआ नतमस्तक हो गया.

गुरु जी बहुत दयालु थे ईश्वर का अवतार थे. उन्होंने बलि गंधार को माफ कर दिया और बुरे कर्म छोड़ कर हमेशा अच्छे कर्म करने को कहा लोगो का भला करने का उपदेश दिया. इसके बाद गुरु जी ने  अपनी आगे की यात्रा फिर से आरंभ की |

आज भी वो पत्थर पाकिस्तान मे स्थित हैं जिसके नाम पर वहाँ एक गुरुद्वारा बनाया गया जिसका नाम रखा गया श्री पंजा साहिब. जो की तीर्थ स्थलों मे से एक हैं.

guru nanak hindi story

इस प्रकार वो गुरुद्वारा और स्थान श्री पंजा साहिब के नाम से मशहूर है |

 

guru nanak hindi story से हमने क्या सीखा |

तो दोस्तो guru nanak story आपको कैसी लगी कमेन्ट करके जरूर बताना |

 

गुरु नानक जी की ऐसी ही और भी शिक्षाप्रद कहानियाँ पढ़ने के लिए नीचे क्लिक करे |

 

जरूर पढ़े- धार्मिक कहानी -गुरु नानक जी के जीवन की अद्भुत बाते-religious stories in hindi –

dharmik-kahani

जरूर पढ़े- धार्मिक कहानी -संगीत से मिला ज्ञान -दाने दाने पर लिखा है खाने वाले का नाम -religious stories in hindi –

 

religious-stories-hindi

 

इन्हे भी जरूर पढे

धार्मिक कहानियों का रोचक सफर

 

रोचक कहानियाँ 

 

moral-stories-in-hindi

 

महाभारत काल की अद्भुत ज्ञान से भरी  एक सच्ची ऐतिहासिक घटना – 🙏 इस video को 👉🎧 लगाकर एक बार जरूर देखे.

 

 

तो दोस्तों ज्ञान से भरी यह video कैसी लगी? ऐसी ही और भी तमाम videos देखने के लिए नीचे दिये गए लाल बटन पर clik करो (दबाओ) 👉

Hindi-moral-stories
Hindi moral stories videos

जरूर पढ़े – गरुनपुराण के अनुसार – मरने के बाद का सफर

religious-stories-in-hindi

Religious-stories-in-hindi

 

2 thoughts on “guru nanak hindi story क्यों रोकना पड़ा गुरु नानक जी को पहाड़”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

chanakya niti ki anmol bate | चाणक्य शस्त्र Chanakya niti | झूठ बोलने वाली पत्नी chanakya niti | इन बातों को समझ गए तो रिश्ते कभी खराब नहीं होंगे chanakya niti hindi me chanakya niti | chanakya golden thoughts chanakya niti | life change quotes chanakya niti | इन 5 परिस्थितियों मे हमेशा चुप रहो chanakya niti | life change thoughts chanakya niti | चाणक्य के अनमोल वचन chanakya thoughts for life