page contents

naitik kahani | कर्जा कौन देगा | moral story hindi

दोस्तों स्वागत है आपका किस्से कहानियों इस रोचक दुनिया मे | यहाँ पर आपको motivational stories के साथ moral stories से मिलने वाले ज्ञान से रुबारू करवाया जाता है |

हमारी आज की कहानी है naitik kahani कर्जा कौन देगा |  दोस्तो इन कहानियों का जीवन मे बहुत महत्त्व होता है | क्योकि  इन कहानियों के माध्यम से  अक्सर हमे  कुछ ऐसा ज्ञान  हासिल हो जाता है जो हमारे जीवन की तमाम परेशानियों को खत्म कर देता है |

यहाँ पर बताई गई हर कहानी मे ज्ञान और शिक्षा छिपी हुई है | तो पढ़ते रहिए इन ज्ञान से भरी इन कहानियों (stories) को

 

 

naitik kahani – कर्जा कौन देगा? 

naitik-kahani

बहुत पुराने समय की बात है एक गांव मे गंगा राम नाम का एक भला आदमी रहता था | गंगा राम बहुत भला आदमी था हमेशा अपनी क्षमता की सीमाओ से भी बाहर जाकर लोगो की मदद करने का प्रयास करता | गंगा राम के तीन पुर  दो भाई और एक बेटी थी |

एक दिन दुर्भाग्यवश  भले आदमी गंगाराम का देहांत हो गया था.  अंतिम संस्कार करवाने गंगा राम के सभी नात रिश्तेदार पहुंचे | पंडित ने रस्म पूरे किए अर्थी सजाई गई | गंगा राम को अर्थी पर लिटाया गया | पुत्रो और भाइयों ने अर्थी उठाई और आगे बढ़े | गंगा राम की बेटी यह दृश्य देख ना पा रही वह वही जमीन पर लोट लोट कर रोनी लगी |

गंगा राम के अर्थी की अंतिम यात्रा कुछ दूर तक पहुंची थी की एक बहुत बड़े सेठ ने उनका रास्ता रोक लिया | सेठ के साथ दो लोग हाथो मे बंदूक  लिए खड़े थी | सेठ बोला ये ये अर्थी यहाँ से आगे नहीं जाएगी | परिवार जनो ने सेठ से पूछा की क्यो सेठ क्या हुआ एसा क्यो केआर रहे हो ? 

सेठ ने जवाब दिया  – आज से 1 माह पहले  साल पहले गंगा राम ने मुझसे 2 लाख रुपए का कर्ज लिया था | शर्त के अनुसार कर्ज की राशि ना लौटाने पर या तो उनकी जमीन मेरे नाम की जाएगी या फिर उनके परिवार वालो से कर्जा लिया जाएगा | 

तो फिर अब बताओ आप लोगो मे से कौन देगा कर्जा | अब तमाम लोग तमाशा देख रहे थे. तभी उनके तीनो बेटे ने कहा . की हम तुम्हारा कर्जा नहीं देंगे. हमारे पास इतना धन नहीं की आपको कर्जे की राशि भी दे सके |

पिता जी का कर्जा पिता जी जाने. वैसे भी अब वो इस दुनिया मे रहे नहीं .

अगर आपको उनकी अर्थी ले जानी है तो ले जाओ. गंगा राम के बेटों की इस तरह की बातें सुन वहाँ मौजूद सभी लोग दिक्कार जताने लगे की कैसे नालायक और मतलबी पुत्र है.

इस तरह गंगा राम के बेटों ने कर्ज वापिस करने के लिए तो अपने कदम पीछे हटा लिए.

तभी गंगा राम के भाइयों ने भी कह दिया की ज़ब बेटे कर्जा नहीं दे रहे सकते तो हम क्यों किसी का कर्जा भरे.

 

अब गंगा राम की अर्थी को वहाँ रुके बहुत देर हो गई थी. तभी यह बात गंगा राम की एक बेटी तक पहुँच गई.

तो वह भागे भागे अपने पिता जी की अर्थी तक पहुंची.

तभी उसने देखा की अर्थी का एक पाँव बड़े सेठ ने पकड़ रखा था.

Advertisement

ये देखते ही उसने आँखो मे आंसू लिए. अपना सारा ज़ेवर और जितने भी पैसे उसके पास थे वो सब सेठ को दे दिए और अपने हाथ जोड़ती हुई ये बोली की सेठ! अगर ये सब ज़ेवर बेच कर भी आपका कर्जा पूरा ना हो पाए तो मै खुद मेहनत मज़दूरी करके आपका कर्जा चुका दूंगी.

मगर इस समय मेरे पिता जी की अंतिम यात्रा को मत रोको. तभि उस सेठ ने अर्थी का पाँव तुरंत छोड़ दिया और बोला ,! अरे नहीं नहीं बेटी, तुम्हे ये सब करने की कोई आवश्यकता नहीं है. क्योंकि सच्चाई ये है की मुझे एक समय मे पैसो की बहुत जरूरत थी मै बहुत गरीब था, तब उस समय तुम्हारे पिता ने मुझे 10 हज़ार रुपए देकर मेरी मदद की थी.

 

गंगा राम बहुत भला आदमी था उसने मुझसे एक रुपया व्याज़ तक नहीं माँगा कभी. और वहीं पैसे मै यहां देने आया था. लेकिन ज़ब मुझे पता चला की गंगा राम का देहांत हो गया. तब मैंने सोचा की ये पैसे किसे दूँ.

 

पैसे सही हाथो मे कैसे दूँ यह जानने के लिए मैंने ये सब नाटक रचा था.

तुम्हारी बातो और पिता के प्रति जिम्मेदारी को देखकर मैं समझ गया की पैसो की असल हकदार तुम ही हो.आज तुमने साबित कर दिया की बेटे से ज़ादा बेटी ही माँ बाप से प्यार करती है.

 

आपके पिता जी तो नहीं रहे लेकिन अब ये कर्ज मै तुम्हे वापिस करके अपने सर से कर्ज के बोझ को खत्म कर देना चाहता हूं.

 

इस लिए कर्ज को तुम लो और मुझे कर्ज से मुक्त करो. सेठ बेटी को पैसे लौटा कर और अपना आशीर्वाद देकर वहाँ से चला गया.

यह सब देख कर गंगा राम के बेटे और भाइयों का सर शर्म से नीचे झुक गया.

तो दोस्तो इस कहानी से आपने क्या सीखा कमेन्ट करके जरूर बताना |

 

दोस्तों हमारी  हमेशा से यही कोशिश रहती है की हम  इस blog पर आपके लिए ज्ञान और शिक्षा  से भरी ऐसी ही तमाम कहानियाँ लाते रहे जिससे आपका ज्ञान बढ़ सके , बौद्धिक विकास हो सके ,जीवन मे सही फैसले ले सके , आप जीवन मे आगे बढ़ सके , मन मे सकारात्मक  विचारो का जन्म हो और  आपके सुंदर चरित्र का निर्माण हो ताकि आप आगे चल  कर  सुंदर परिवार और समाज का निर्माण कर सके |

हम चाहते है की यह कहानियाँ जादा से जादा लोगो तक पहुंचे ताकी वह भी इसका पूरा लाभ उठा सके इसलिए आप इन कहानियों को social media की मदद से अपने सभी दोस्तों मे अवश्य शेयर करे | आपका  ये छोटा सा प्रयास कई लोगो की जिंदगी भी बदल सकता है |

 

ज्ञान से भरी कहानियाँ |new moral stories in hindi-moral stories in hindi – शिक्षा प्रद कहानियों का रोचक सफर

जरूर पढ़ें – 2 सर्वश्रेस्ठ नैतिक कहानियाँ 

जरूर पढ़ें  – जिंदगी बादल देने वाली ज्ञान से भारी 100 रोचक कहानियाँ 

Advertisement

जरूर पढ़ें  – जीवन के अद्भुत ज्ञान से भरी 10 सबसे महान कहानियाँ 

जरूर पढ़ें  – अनमोल ज्ञान से भरी 10 अद्भुत कहानियाँ 

जरूर पढ़ें  –  जीवन के अनमोल ज्ञान से भरी 50 hindi moral stories 

जरूर पढ़ें  – बच्चो के लिए ज्ञान से भरी 50 सर्वश्रेष्ठ  कहानियाँ

जरूर पढ़ें  – मौजी साधू | best hindi moral story

जरूर पढ़ें  – बुद्धिमान खरगोश की चतुराई 

जरूर पढ़े – बुद्धिमान हंस | hindi moral story for kids 

जरूर पढ़ें  – new moral stories

जरूर पढ़े – कर्मफल पर आधारित 3 अद्भुत कहानियाँ 

 

 

ज्ञान से भरी किस्से कहानियों का रोचक सफर | यहाँ मिलेंगे आपको तेनाली रामा और बीरबल की चतुराई से भरे किस्से ,  विक्रम बेताल की कहनियों का रोचक सफर , भगवान बुद्ध  कहानियाँ , success and motivational stories और ज्ञान से भरी धार्मिक कहानियाँ 

 

moral-stories-in-hindi

 

 

Advertisement

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *