page contents

best hindi moral story भिखारी की दो बाते

hindi moral story भिखारी की दो बाते – स्वागत है आपका ज्ञान और सीख से भरे कहानियों (stories) के इस रोचक सफर मे |दोस्तो इन कहानियों का जीवन मे बहुत महत्त्व होता है |

 

क्योकि  इन कहानियों के माध्यम से  अक्सर हमे  कुछ ऐसा ज्ञान  हासिल हो जाता है जो हमारे जीवन की तमाम परेशानियों को खत्म कर देता है |

 

यहाँ पर बताई गई हर कहानी मे ज्ञान और शिक्षा छिपी हुई है | तो पढ़ते रहिए इन ज्ञान से भरी इन कहानियों (stories) को |hindi moral story

 

 

दोस्तो ऐसी ही हजारो धार्मिक कहानियाँ (dharmik kahaniya) religious stories in hindi शिक्षा प्रद , लोकप्रिय और रोचक कहानियों का  ज्ञान हम आप तक लेकर आए है जिन्हे लोगों ने बचपन मे अपने दादा दादी – या  नाना- नानी  से सुनी होती है

 

या फिर टीवी मे देखी होती है | लेकिन यहाँ पर आपको ऐसी बहुत सी शिक्षा प्रद , लोकप्रिय और रोचक कहानियाँ मिलेंगी जिसे शायद ही आपने कही सुनी होंगी |

 

तो पढ़ते रहिए ऐसी कहानियाँ और सीखते रहिए एक नई सीख  ,साथ मे ऐसी शिक्षा प्रद कहानियाँ  अपने दोस्तो को भी शेयर करते रहिए |

भिखारी की दो बाते-शिक्षाप्रद कहानी 

hindi moral story

 

10-moral-stories-in-hind

hindi moral story- एक मीना नाम की औरत थी जो अपने पति के साथ शहर  मे रहती थी | उनका अपना घर था |

 

मीना का एक बेटा था जिसका नाम था राहुल | रोज मीना सुबह उठ कर नहा धो कर अपने बेटे और पति के लिए नाश्ता तैयार करती |

 

बेटा और पति नहा धो कर नाश्ता करते और तैयार हो कर बेटा अपने स्कूल चला जाता और पति अपने ऑफिस | 

 

Advertisement

इसके बाद एक भिखारी गेट के बाहर खड़ा हो कर बोलता – “कुछ खाने को दे दे माई ”  भिखारी बार बार यही बात दोहराता रहता जब तक मीना रोटी न दे देती |hindi moral story

 

 

भिखारी की आवाज सुन मीना दो रोटी लेकर आती और उस भिखारी को दे देती | फिर भिखारी रोटी ले कर जाते जाते बोलता – जैसा भी बुरा भला दूसरों के साथ करोगे वैसा ही फल तुम तक लौट के आ आएगा “|

 

इस तरह हर रोज होता –  भिखारी आता ! फिर मीना रोटी लेकर जाती ! और  जाते जाते भिखारी वही दो बाते बोल कर चला जाता |

 

एक दिन पति और बेटा दोनों सो कर लेट उठते है | बेटा  जल्दी जल्दी मे तैयार होकर बिना कुछ खाए स्कूल चला जाता है |इधर पति भी जल्दी जल्दी मे ऑफिस के लिए तैयार होने लगता है | 

आप पढ़ रहे है -hindi moral story

 

पति को जब उसकी जुराबे नहीं मिलती तो पति ज़ोर से मीना को चिल्लाता है की कहाँ रख दी मेरी जुराब , मिल ही नहीं रही है |

 

 

 

इधर मीना किचन से भागते हुए आती है और जुराब अलमारी मे खोजती है जुराब नहीं मिल रही होती तो पति मीना पर गुस्सा होने लगता है की-  “याद नहीं रहता तुम्हें ” न जाने कहाँ कहाँ रख देती हो “

 

यह सुन इधर मीना भी गुस्सा हो जाती है और बोलती है –  एक तो लेट सो कर उठे हो और अब सुबह सुबह  मुझ पर मत चिल्लाओ |

 

दोनों की बहुत बहस होती है | आखिर कार जुराब मिल जाती है और पति बिना कुछ खाए गुस्से मे ऑफिस चला जाता है |

 

Advertisement

 

इधर पत्नी गुस्से मे तम तमाते हुए किचन मे बर्तन धोने चली जाती है | इतने मे वही भिखारी आता और बोलता है कुछ खाने को दे माई|

 

यह सुन मीना मन ही मन बोलती है – आज कुछ नहीं दूँगी इसे जब देखो  रोज रोज चला आता है ऊपर से कोई ध्न्न्यवाद भी नहीं देता बस पता नहीं क्या क्या बोल कर चला जाता है |

 

कुछ देर मीना के बाहर न आने पर  भिखारी और ऊचा बोलना शुरू कर देता है जिससे मीना को और गुस्सा आता है | 

 

मीना के मन मे आता है क्यो न इसे जहर मिला कर दे दू रोटी मे , किस्सा ही खतम रोज रोज का  |

मीना रोटी मे जहर लगा देती है | और जैसे ही भिखारी को देने जाती है वह रुक जाती है उसको भिखारी पर रहम आजाता है और सोचती है यह मैं क्या करने जा रही थी ऐसे तो इस भिखारी की मौत हो जाती |

 

 

मीना तुरंत भागते हुए वापिस घर जाती है और दूसरी रोटी लाती है उस भिखारी को दे देती है |

 

इधर भिखारी हमेशा की तरह रोटी लेकर अपनी वही दो बाते बोलता हुआ वहाँ से चला जाता है |

आप पढ़ रहे है -hindi moral story

 

मीना उस जहर वाली रोटी को चूल्हे पर रख कर आग से जला देती है |

मीना दिन का खाना बनाने की तैयारी शुरू कर देती है |

 

मीना खाना बना लेती है | करीब 2 बज जाते है और  उसका बेटा राहुल अभी तक घर नहीं पहुंचा होता |

Advertisement

 

मीना यह सोच परेशान हो जाती है की – एक तो  भूखे पेट स्कूल चला गया ऊपर से अब तक घर भी नहीं  पहुंचा |

 

 

मीना का दिल बहुत घबरा रहा था | इतने मे कोई दरवाजे पर दस्तक देता है | मीना जैसे ही दरवाजा खोलती है वह दंग रह जाती है |

 

मीना देखती है की उसका बेटा राहुल बहुत बुरी हालत मे |

राहुल के कपड़े गंदे होते है और राहुल बहुत कमजोर दिख रहा होता है |

मीना राहुल को पहले सोफ़े पर बैठती है और पानी पिलाती है| मीना पूछती है की बेटा यह  कैसे हुआ बेटा | 

तब बेटा बोलता है – माँ! मैं बहुत भूखा था जैसे ही स्कूल से घर आते हुए रास्ते मे मुझे चक्कर आगया था | माँ ! आज तो मैं मर ही गया होता अगर उस भिखारी ने मुझे वो रोटी खाने को न दी होती |

 

जब मैं  वहाँ रास्ते मे गिरा तो वहाँ कोई नहीं था कुछ देर बाद वहाँ वो भिखारी आया और मुझे उठाया बोलने लगा लो ये रोटी  खा लो इस समय मुझसे ज्यादा जरूरत तुम्हें है |

 

उसने अपनी रोटी मुझे खिलाई और पानी पिलाया | तब जाकर कुछ जान मे जान आई माँ | hindi moral story

 

बेटे की यह बाते सुन मीना का तो सर चकरा गया | मीना खुद को किसी तरहा संभालती हुई रोने लगी की आज मेरा बेटा उसी भिखारी की वजह से जिंदा है जिसे मैं आज वो  जहर वाली रोटी देने जा रही थी |

 

यदि आज मैंने उसे वो रोटी दे दी होती तो वही रोटी वो मेरे बेटे को देता और मेरा बेटा मर जाता | इतना सोच मीना  रोने लगती है |

 

अब मीना को उस  भिखारी की बाते समझ आने लगती है की भिखारी जो बोलता था वो सही बात निकली |  “जैसा भी बुरा भला दूसरों के साथ करेंगे वैसा ही हम तक लौट के वापिस भी  आएगा “|

Advertisement

 

इस hindi moral story से काया सीख मिली ?

तो देखा दोस्तो  इंसान जो भी करता है जैसा भी करता है उसे एक न एक दिन उसका फल मिलता ही मिलता है , सोचो अगर उसने आज भिखारी को वो जहर वाली रोटी दे दी होती तो आज उसका बेटा जिंदा न होता |

 

या फिर अगर भिखारी खुद वो जहर वाली रोटी खा लेता तो न तो वो भिखारी बचता और न ही भूख से तड़प रहा उसका बेटा राहुल बचता | तो देखा भगवान का न्याय जैसा करोगे वैसा भरोगे | hindi moral story हमेशा दूसरों का भला करो आपका भी भला होगा |

 

 

 

स्वागत है आपका top 10 hindi moral stories के इस रोचक सफर मे | इन दस कहानियों मे अलग अलग शिक्षाएँ(moral) छुपी हुई है जो आपको ईएसए ज्ञान प्रदान करती है जो आपको जीवन मे बहुत काम  आती है | इन शिक्षाप्रद कहानियों के माध्यम से हम आपको ऐसे ज्ञान से रुबारू करवाते है जिससे आपके जीवन की बहुत सी परेशानियाँ सुलझ जाती है |तो पढ़ते रहिए इन कहानियों को -धन्यवाद 

 

 

दोस्तों हमारी  हमेशा से यही कोशिश रहती है की हम  इस blog पर आपके लिए ज्ञान और शिक्षा  से भरी ऐसी ही तमाम कहानियाँ लाते रहे जिससे आपका ज्ञान बढ़ सके , बौद्धिक विकास हो सके ,जीवन मे सही फैसले ले सके , आप जीवन मे आगे बढ़ सके , मन मे सकरत्म्क विचारो का जन्म हो और  आपके सुंदर चरित्र का निर्माण हो ताकि आप आगे चल केआर सुंदर परिवार और समाज का निर्माण कर सके |

हम चाहते है की यह कहानियाँ जादा से जादा लोगो तक पहुंचे ताकी वह भी इसका पूरा लाभ उठा सके इसलिए आप इन कहानियों को social media की मदद से अपने सभी दोस्तों मे अवश्य शेयर करे | आपका ये छोटा सा प्रयास कई लोगो की जिंदगी भी बदल सकता है |

 

 

 

Advertisement

Leave a Comment